Breaking News

10 रूपए कि ये चीज़ जोड़ो के दर्द और पथरी को जड़ से खत्म कर देगी

kaddu

सीताफल जिसे कद्दू भी कहा जाता है सेवन करने से शुगर, पथरी, घुटने के दर्द, जोड़ो के दर्द को हमेशा के लिए ख़तम हो जाता है । यह 6 महीने तक खराब नहीं होता। आप इसे 6 महीने तक रखकर इसका उपयोग सब्जी या अन्य रूपों में भी कर सकते हैं। भारत में इसकी खेती की जाती है और रूस में इसकी खेती सबसे अधिक होती है। कद्दू में विटामिन सी अधिक मात्रा में पाया जाता है। ये पथरी और पित को खत्म करने वाला होता है। 

आइए जानते हैं इसके गुणों के बारे में: यह पित उत्पन्न करने वाला पाचन शक्ति को बढ़ाने वाला गैस को पैदा करने वाला और पेशाब को बढ़ाने वाला और प्यास को दूर करने वाला होता है। पित के रोगी को इसका सेवन अनार या खट्टे अंगूर के साथ करना चाहिए। पके कद्दू का सेवन करने से खांसी दूर होती है। कच्चा कद्दू अमाशय के लिए बहुत लाभकारी होता है। कद्दू का सेवन वात व कफ के रोगियों के लिए काफी हानिकारक होता है। इसीलिए वात और कफ रोगियों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। 


अगर पेट में कीड़े हो गए हैं तो कद्दू का रस मिलाकर पीने से पेट के कीड़े खत्म हो जाते हैं। मूत्र रोग की सभी परेशानियों को दूर करने के लिए कद्दू के रस का प्रयोग किया जाता है। शरीर का सूजन आना पेशाब में शक्कर आना और मूत्राशय में पथरी बनना इत्यादि रोगों को ठीक करने के लिए कद्दू का रस प्रतिदिन सेवन करना चाहिए। 

कद्दू के बीजों को पीसकर घाव पर लगाने से कीड़े खत्म हो जाते हैं। आग से जल जाने पर सफेद कद्दू के पत्तों को पीसकर जले हुए भाग पर लेप करना चाहिए। इससे जलन शांत हो जाती है और जख्म ठीक हो जाते हैं। शरीर की सूजन के लिए कद्दू के लगभग 8 से 10 बीजो को शहद में मिलाकर खाने से शरीर की सूजन दूर हो जाएगी।

No comments