Breaking News

शिमला में पशुओं को चरा रहे किसान पर भालू ने किया हमला, बैल ने बचाया


मामला हिमाचल प्रदेश के शिमला का है। अब भलागांव में भालू ने एक बुजुर्ग किसान पर हमला कर दिया। किसान चेतराम (65) अपने घर के पास पशुओं को चरा रहा था। दोपहर के समय पहले तो भालू के दो बच्चे दिखाई दिए। चेतराम ने समझा कि यह गांव के कुत्ते हैं जो पशुओं के बीच आ गए हैं। 

लेकिन थोड़ी ही देर में पता चला कि यह तो भालू हैं। इससे पहले कि कुछ कर पाते इन छोटे भालुओं के पीछे चल रही मादा भालू ने चेतराम पर हमला कर दिया। भालू के पंजे से चेतराम के सिर और आंख पर गहरी चोटें लग गईं और खून निकलने लगा।

भालू के पंजे से धक्का लगने के बाद चेतराम झाड़ियों में गिर गया। इसी दौरान चेतराम का एक बैल भालू पर टूट पड़ा। बैल ने अपने सींगों से मादा भालू को उठाकर दूर पटक दिया। इसके बाद मादा भालू अपने बच्चों के साथ वहां से भाग गई।

चेतराम ने तुरंत परिजनों और गांव के लोगों को इसकी सूचना दी। रेंज के वनरक्षक संजय कुमार को भी सूचना दी गई। बाद में चेतराम को चायल अस्पताल ले जाया गया जहां इन्हें प्राथमिक उपचार दिया गया है।

साथ लगते गांव में फिर दिखा भालू: यह भालू साथ लगते धार गांव में देखा गया है। स्थानीय लोगों से सूचना मिलने के बाद वन विभाग और वन्यजीव विभाग की टीमों ने इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। विभाग की टीम इस बार जाल और ट्रैंक्यूलाइजर गन लेकर निकली है।

डीएफओ सुशील राणा ने कहा कि अकेले वन विभाग ने भालू को पकड़ने के लिए तीन टीमें बनाई हैं। जंगलों की खाक छानी जा रही है। लोगों को भी अलर्ट रहने और भालू दिखने पर तुरंत सूचना देने की अपील की गई है। जल्द ही तीनों भालुओं को पकड़ लिया जाएगा।

तीन हमलों के बाद जागा विभाग: अपने दो बच्चों के साथ कोटी रेंज पहुंची मादा भालू अब तक तीन लोगों पर जानलेवा हमला कर चुकी है। धार करेवड़ी के ओमप्रकाश, चायल के बांजणी गांव के अजय कुमार और अब भलागांव के चेतराम पर हमला हुआ है।

इलाके में दर्जनों गांवों में भालुओं की इतनी दहशत है कि लोग अकेले जंगल के रास्तों से नहीं जा रहे। स्कूली बच्चों को भी अभिभावक खुद स्कूल छोड़ने जा रहे हैं। आए दिन हो रहे हमले के बाद अब जाकर वन विभाग जागा है। विभाग ने वन्यजीव विभाग के साथ सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है।

No comments