Breaking News

करियर में सफलता चाहिए तो पहने दो मुखी रुद्राक्ष


शास्‍त्रों में रुद्राक्ष  को बहुत महत्‍वपूर्ण और पवित्र माना गया है। इसे स्‍वयं भगवान शिव के अश्रुओं के रूप में पूजा जाता है। रुद्र और अक्ष जैसे दो शब्‍दों से मिलकर बना रुद्राक्ष शब्‍द बहुत शक्‍तिशाली होता है। मान्‍यता है कि शिव के अश्रुओं से ही रुद्राक्ष के वृक्ष की उत्‍पत्ति हुई थी। रुद्राक्ष इंसान को हर तरह की हानिकारक ऊर्जा से बचाता है। इसका इस्तेमाल सिर्फ तपस्वियों के लिए ही नहीं, बल्कि सांसारिक जीवन में रह रहे लोगों के लिए भी किया जाता है। इसलिए यदि आप अपनी राशि के अनुसार रुद्राक्ष को पहनते है तो यह आपके जीवन में काफी बदलाव लाता है, मानसिक तनाव भी दूर करता है।

 रुद्राक्ष की विशेषता यह है कि इसमें एक अनोखे तरह का स्पदंन होता है। जो आपके लिए आप की ऊर्जा का एक सुरक्षा कवच बना देता है, जिससे बाहरी ऊर्जा आपको परेशान नहीं कर पातीं।

जिस प्रकार उचित रत्न धारण करने से ग्रहों के कुप्रभावों को कम अथवा समाप्त किया जा सकता है, उसी तरह रुद्राक्ष भी किसी भी मनुष्य के दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलने में पूर्णरूप से सक्षम होते हैं। आप अपने भाग्य के बंद द्वारों को खोलना चाहते हैं तो अपनी राशि के अनुसार रुद्राक्ष धारण करें और उसका प्रभाव देखें।

कुल 17 प्रकार के रूद्राक्ष होते हैं लेकिन इनमें से केवल 11 प्रकार के रूद्राक्ष का उपयोग ही विशेष प्रकार के लाभ प्राप्त करने के लिए किया जाता है। गजकेसरी योग के लिए दो और पांच मुखी, लक्ष्मी योग के लिए दो और तीन मुखी रुद्राक्ष लाभकारी होता है।

रुद्राक्ष को गले और हाथ में पहना जा सकता है। लेकिन रुद्राक्ष को गले में पहनना सबसे ज्यादा लाभदायक रहता है। कलाई में 12, गले में 36 और ह्रदय पर 108 दानों का रुद्राक्ष पहनना चाहिए। आप गले में एक रुद्राक्ष भी पहन सकते है। रुद्राक्ष को हमेशा लाल रंग के धागे में ही पहनना चाहिए। रुद्राक्ष को सावन के महीने में, सोमवार के दिन और शिवरात्रि के दिन पहनना बहुत शुभ रहता है। आपको इसे पहनने से पहले शिवलिंग के सामने रखना चाहिए और शिव मन्त्रों का जाप करें। रुद्राक्ष धारण करने वाले व्‍यक्‍ति को सात्‍विक जीवन का पालन करना चाहिए। आचरण शुद्ध ना रखने पर धारण कर्ता को इसका पूर्ण लाभ नहीं मिल पाता है।

  • शिक्षा ग्रहण करने संबंधी समस्या को दूर करने के लिए यह रुद्राक्ष बहुत प्रभावी है। करियर( Career) में सफलता के लिए न्यायाधीशों तथा वकीलों को दो मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए
  • आर्थिक स्थिति में शीघ्र सुधार के लिए आपको प्राण-प्रतिष्ठित तथा सिद्ध किया हुआ गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। इसके प्रभाव से आप की आय औरं ऐश्वर्यपूर्ण वस्तुओं के उपभोग में भी वृद्धि होगी।
  • यदि जीवन में उच्च सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो आप एक मुखी से चौदह मुखी तक के रुद्राक्ष एक साथ, एक ही माला में धारण करें। इससे आपको निश्चय ही जीवन में सफलता मिल सकती है।
  • यदि आप प्रतियोगिता परीक्षाएं( Competition exams) बार-बार देने पर भी सफल नहीं हो पा रहे हैं तो आप को निश्चित रूप से प्राण-प्रतिष्ठित एवं सिद्ध एक मुखी रुद्राक्ष अथवा इसके अभाव में गणेश रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। इसके प्रभाव से आप को भगवान शिव एवं गणेश की कृपा प्राप्त होगी तथा आप सफलता के पथ पर अग्रसर होंगे
  • राहु ग्रह दोष निवारण हेतु आप आठ मुखी रुद्राक्ष को धारण करें। इसे अष्टदेवी का रूप माना जाता है। इसको पहनकर आपको अष्टसिद्धियां प्राप्त हो सकती है। इसकी मदद से आपको अचानक वित्तीय लाभ हो सकता है और यह आपको काले जादू के प्रभाव से बचाता है। राहु ग्रह से संबंधी समस्या को दूर करने के लिए आप इसे पहन सकते है।
  • बच्चों से संबंधित समस्या निवारण के लिए आप ग्यारह मुखी रुद्राक्ष धारण करें। इसे भगवान शिव का रूप माना जाता है। बच्चों से संबंधी समस्या को दूर करने के लिए आप ये रुद्राक्ष पहन सकते है।
  • आरोग्य तथा सौभाग्य के लिए जिन जातकों को स्वास्थ्य संबंधी कष्ट जैसे उच्च रक्त चाप, गैस कमजोरी आदि रहती है, उनको रुद्राक्ष, मोती, स्फटिक तथा हकीक मिश्रित सौभाग्य माला दीपावली के पावन पर्व पर धारण करनी चाहिए। इसके धारण करने से अनेक रोगों से बचाव तो होता ही है साथ ही स्मरण शक्ति और भाग्यवृद्धि भी होती है।

इस माला को प्रातःकाल बिना कुछ खाएं-पिए तथा स्नानोपरांत अपने इष्ट देव की पूजा करने के पश्चात शुभ मुहूर्त में धारण करना चाहिए।

No comments