Breaking News

हिमाचल में भारी बारिश से नदी-नाले उफान पर, 113 सड़कें बाधित


हिमाचल प्रदेश में बारिश शनिवार को भी जारी रही। भारी बारिश से प्रदेश में तीन नेशनल हाइवे समेत 113 सड़कें बाधित हो गई हैं। भूस्खलन होने से कालका-शिमला एनएच पर पांच किलोमीटर तक लंबा ट्रैफिक जाम लगा। हजारों लोग वीकेंड पर घंटों तक ट्रैफिक जाम से परेशान हुए। शनिवार को राजधानी शिमला सहित प्रदेश के कई क्षेत्रों में भारी बारिश हुई। शिमला में पेड़ गिरने से कई जगह बिजली सप्लाई ठप रही। पांवटा साहिब में बारिश का पानी लोगों के घरों में घुसने से गुस्साएं लोगों ने सड़क जाम कर दी। इस वजह से पांवटा में करीब दो घंटे तक लंबा ट्रैफिक जाम लगा। भारी बारिश से सूबे के नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। नदियों में गाद आने से बिजली परियोजनाओं में उत्पादन 20 फीसदी तक गिरा है।

बिजली परियोजनाओं में कई बार टरबाइनें बंद करनी पड़ी। लाहौल और मनाली की ऊंची चोटियों पर हल्की बर्फबारी और अन्य क्षेत्रों में बारिश से प्रदेश में ठंडक बढ़ गई है। शनिवार को प्रदेश के अधिकतम तापमान में चार से पांच डिग्री की कमी दर्ज हुई। उधर, बारिश के चलते शिमला, कुल्लू, रामपुर, रोहड़ू, मंडी में नाशपाती और सेब का तुड़ान रुक गया है। शनिवार को शिमला और भुंतर से हवाई उड़ाने भी नहीं हो सकी।


कालका-शिमला एनएच पर कुमारहट्टी के समीप शनिवार सुबह आठ बजे से लेकर दोपहर बाद तक खील का मोड़ से लेकर धर्मपुर तक पांच किलोमीटर लंबा जाम लगा रहा। दोपहर बाद जाम बहाल किया गया है। पुलियां डालने के लिए फोरलेन कंपनी की ओर से एक तरफ के मार्ग को बंद किया गया था। वाहनों की आवाजाही वन वे से की जा रही थी, जिससे परेशानी हुई।

शनिवार सुबह मंडी-कुल्लू एनएच पर बिंद्रावणी के समीप पहाड़ी से भारी भूस्खलन होने से मार्ग एक घंटे तक बंद रहा। धर्मपुर-सरकाघाट मार्ग भी भूस्खलन और पेड़ गिरने से जगह-जगह बाधित रहा। इस दौरान एनएच पर दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लगी रहीं। सैलानियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। राजधानी शिमला में लगातार दूसरे दिन शनिवार को भी भारी बारिश हुई। शहर में कई जगह पेड़ों के गिरने से बिजली की तारें टूट गईं। इससे कुछ क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बाधित रही।



निकास नालियां अवरुद्ध होने से सारा पानी सड़कों पर बहने से लोगों को भारी परेशानी हुई। भूस्खलन से जिला कुल्लू में करीब दो दर्जन सड़कें प्रभावित रहीं। शहर की सड़कें पानी से लबालब हो गईं। धर्मशाला सहित कांगड़ा जिले में दिन भर रिमझिम बारिश जारी रही।

No comments