Breaking News

दर्दनाक हादसा: मां-बाप के इकलौते जिगर के टुकड़े और छह बहनों के भाई की लापरवाही ने लील ली जिंदगी


छह बहनों के इकलौते भाई को पीछे लेते समय स्कूल बस ने कुचल दिया। बच्चा स्कूल बस से छुट्टी के बाद लौट कर आ रहा थ। छह बहनों के इकलौते भाई को पीछे लेते समय स्कूल बस ने कुचल दिया। बच्चा स्कूल बस से छुट्टी के बाद लौट कर आ रहा थ। जैसे ही उतर कर नीचे आया तो बस चालक ने लापरवाही से चलाते हुए पीछे लेकर कुचल दिया। परिजन उसे तुरंत निजी अस्पताल में लेकर गए। वहां से उसे एसके अस्पताल में भेज दिया गया। डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

दादिया पुलिस मामले की जांच कर रही है। एएसआई नत्थू सिंह ने बताया कि प्रकाश (11 ) पुत्र अशोक कुमार निवासी कुडली की बस के पहिए के नीचे आने से मौत हो गई। उन्होंने बताया कि बच्चा निजी स्कूल में 5 वीं कक्षा में पढ़ता था। वह सुबह घर से स्क्ूल बस में ही बैठकर स्कूल चला गया था। इसके बाद दोपहर करीब ढाई बजे स्कूल बस से लौट कर आया। बस में करीब 10-11 बच्चे बैठे हुए थे। प्रकाश बस से नीचे उतर कर आ गया। घर के नजदीक ही बस रोजाना उतारती थी। वह घर जाने के लिए कुछ आगे ही चला कि स्कूल बस चालक ने पीछे लेते समय बच्चे को टक्कर मार दी। बच्चा नीचे गिर गया और बस के पिछले पहियों के नीचे आ गया।

बच्चे की चीख पुकार सुनकर लोग दौड़ कर गए। हादसा देखकर बस चालक फरार हो गया। सारे बच्चे बस से उतर कर नीचे आ गए। उसे परिजन निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे। वहां से गंभीर अवस्था में उसे एसके अस्पताल में रैफर कर दिया। उन्होंने बताया कि अस्पताल से हादसे की सूचना मिली थी तब वे अस्पताल में पहुंचे। बच्चे का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया है। उन्होंने कहा कि बस चालक की लापरवाही के कारण हादसा हुआ है।


रक्षाबंधन पर इकलौते भाई के हाथ में बांधी थी बहनों ने राखी

पलथाना निवासी बच्चे के फूफा शीशपाल ने बताया कि वह एक साल से उसके पास ही रह रहा था। वह पढ़ाई में काफी होशियार था। इसीलिए उसे इंग्लिश मीडियम स्कूल में दाखिला दिलाया था। उन्होंने बताया कि वह पढ़ाई के कारण गांव कम ही जाता था। वह रक्षाबंधन पर गांव गया था। 6 बहनों में सबसे छोटा था। बहनों ने उसे बड़े ही दुलार के साथ रक्षाबंधन के साथ राखी बांधी थी। पूरे परिवार का वह लाड़ला था। उन्होंने बताया कि वह पांचवीं कक्षा में पढ़ता था। उसके पिता अशोक खेती करते है। उन्होंने कहा कि स्क्ूल में अनुबंध पर लालासी के रहने वाले बनवारीलाल ने बस लगा रखी थी। उसकी ही लापरवाही के कारण हादसा हुआ है। बस में कंडक्टर भी नहीं लगा हुआ था। उन्होंने बताया कि स्क्ूल संचालक किसी अन्य युवक को बस चालक बताकर दबा रहे है।

No comments