Breaking News

हमीरपुर के छात्र ने की नई खोज, अब शमशानघाट पर ही होगा प्लास्टिक का खात्मा


हमीरपुर जिला में विज्ञान मेेले के दौरान एक सरकारी स्कूल के बच्चें ने ऐसा प्रोजेक्ट बनाया है। जिसे देखकर लोक निमार्ण विभाग ने भी तारीफों के पुल बांधे हैं। अब शमशानघाट पर ही प्लास्टिक का नाश होगा। सरकारी स्कूल जंदडू के नौवी कक्षा के छात्र विशाल कुमार ने देश की सबसे बड़ी समस्या देश को प्लास्टिक मुक्त करने की दिशा में एक कदम बढ़ाया है। विशाल कुमार ने एक मॉडल तैयार किया है। मॉडल एक शमशानघाट का है। जहां पर देह संस्कार किया जाता है, लेकिन शमशानघाट के मॉडल को इस तरह बनाया गया है कि उसमें अब प्लास्टिक को जलाया जा सकता है।

छात्र विशाल कुमार ने बताया कि इस मॉडल के अनुसार अगर हर गांव में इस मॉडल को ध्यान में रखकर शमशानघाट बनाए जाते है तो काफी हद तक प्लास्टिक से मुक्ति मिल सकती है। छात्र ने बताया कि शमशानघाट के ऊपरी सतह पर एक चेंबर बनाया गया है। जहां पर गांवों में इकट्ठा होने वाले प्लास्टिकको स्टोर कर सकते हैं। 

जैसे ही शमशानघाट पर कोई देह संस्कार किया जाएगा तो उससे जो हीट पैदा होगी। उससे वह चेंबर गर्म हो जाएगा। जिससे चेंबर में डाला गया प्लास्टिक तरल रूप में पाइप द्वारा शमशान घाट के निचले चेंबर में इकट्ठा हो जाएगा। 

वह धीरे-धीरे ठोस अकार ले लेगा। हिमाचल में प्लास्टिक से तैयार सड़कों का जाल महज कुछ किलो मीटर तक ही सीमित है। लेकिन इस मॉडल में बताई गई.

सिर्फ शेयर करें और रोजाना कमाए 500$, गारंटी के साथ,अभी साइन आप करें,और पाएं 1500 . तकनीक से कई ट्न प्लास्टिक को यूज करके लोकनिर्माण विभाग सड़कों में भी इसका यूज कर सकता है।

No comments