Breaking News

चंबा: मेेहनत के दम पर बदली तकदीर, 45 दिन में उगाया चार क्विंटल प्याज


साच के किसान रमेश शर्मा ने अपनी मेहनत के दम पर अपनी तकदीर बदल दी है। वर्तमान समय में जहां प्याज के दाम आसमान की ओर बढ़ रहे हैं वहीं रमेश में छह बिस्वा जमीन में महज 45 दिन में चार क्विंटल प्याज उगाकर चंबा शहर के लोगों को काफी हद तक राहत दी है।

रमेश अपनी प्याज की फसल को अब चंबा लाकर 45 और 50 रुपये प्रति किलो बेच रहा है, जो बाजार से 25 से 30 रुपये तक सस्ता है। चंबा जिला की साच पंचायत के किसान रमेश शर्मा ने सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती के माध्यम से महज 45 दिन में चार क्विंटल प्याज तैयार किया है, जो कि चंबा बाजार में 45 से पचास रुपये प्रति किलो के हिसाब से बेचा जा रहा है। रमेश शर्मा लंबे सयम से अपने छोटे-छोटे खेतों में सब्जियां उगाकर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहा है। साच पंचायत निवासी रमेश के गांव कुपाहड़ा की भौगोलिक स्थिति ऐसी है कि यहां न तो सिंचाई का कोई साधन है और न ही पानी उतनी मात्रा में होता है कि वह सिंचाई के लिए प्रयोग कर सके।

प्याज उगाने का लिया प्रशिक्षण: कुपाहड़ा में छह बिस्वा जमीन पर किसान रमेश शर्मा ने चार क्विंटल प्याज को तैयार किया है। जिसमें 14 क्र्यांरया बनाई गई। प्याज को तैयार करने के लिए कृषि विज्ञान केंद्र सरू में तीन दिन के प्रशिक्षण के अलावा बीते सितंबर 2018 में छह दिनों का प्रशिक्षण कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर में प्राप्त किया है।

चंबा में भी सोलन रेड खरीफ प्याज को तैयार होने की संभानाओं को देखते हुए इसे तैयार किया जा रहा है। जिससे कुछ सफलता भी मिली है। उन्होंने बताया कि मार्च व अप्रैल माह में दो माह में इसकी पनीरी तैयार हो जाती है। जिसे सुखाकर पैक कर लिया जाता है जिसे 10 से 20 अगस्त में खेतों में लगाया जाता है। एक किसान पनीरी को तैयार करके अच्छे मूल्य पर दूसरे किसानो को भी बेच सकता है।

No comments