Breaking News

अब दूसरे नेटवर्क का झंझट खत्म, यूपी के हिमालय ने बनाया खुद का नेटवर्क, दे रहा नेट कनेक्शन


उत्तर प्रदेश के लखीमपुर जिले के गोला में एक छात्र ने अनोखा स्टार्ट अप किया है। नौकरी छोड़कर इस इंजीनियर छात्र ने अपना मोबाइल नेटवर्क तैयार किया है। इसके जरिए वह लोगों को इंटरनेट की सुविधा और कनेक्शन दे रहा है। शहर के मोहल्ला तीर्थ निवासी 24 वर्ष के हिमालय गोस्वामी ने पेट्रोलियम विश्वविद्यालय देहरादून से कम्प्यूटर साइंस की डिग्री हासिल की। उसके बाद नोएडा में एजेबी और पुणे माइक्रोसाफ्ट कम्पनी में नौकरी भी की, पर जल्द ही कुछ अलग और नया करने की ठान ली। उन्होंने भारत सरकार के कोरपोरेट मामलों के मंत्रालय से मई 2019 में पंजीकरण कराया। यह नेटवर्क जुलाई 2019 से शुरू हुआ था और अब तक 62 कनेक्शन वितरित हो चुके हैं। हिमालय ने नेटवर्क को अपने शहर को समर्पित कर नाम रखा है-गो गोला। कंपनी का नाम भी गो गोला टेली कम्युनिकेशन लिमिटेड रखा है।

शहर में इंटरनेट सेवा के लिए गो गोला के दो टावर
उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने के लिए हिमालय गोस्वामी ने गो गोला नाम की इंटरनेट सेवा के लिए पौराणिक शिव मंदिर परिसर और ग्राम लाल्हापुर में टावर लगाए हैं। उनका कहना है कि मांग के अनुसार डिवाइसें लगाकर नेटवर्क ऐरिया बढ़ा दिया जाएगा। दावा है कि अन्य ब्रॉडबैंडों से गो गोला ब्रॉडबैंड इंटरनेट की सेवा कहीं बेहतर है।

गो गोला इस तरह से करता है काम: गोला के हिमालय ने बताया कि उनके द्वारा बनाए गए गो गोला काफी अच्छे से काम कर रहा है। दूसरी कंपनी के टॉवर पर लोड बढ़ने से नेट की स्पीड कम हो जाती है। लेकिन उनकी टेक्नोलॉजी से उनके द्वारा लगाए गए टावर अच्छी स्पीड दे रहे हैं। गो गोला के हर टावर पर एक एक्ससेस प्वाइंट बनाए गए है जो नेट की स्पीड बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके अलावा उन्होंने डेटीकेटड सर्वर भी लगा रहा है जिसमें कोई नेट की लिमिट भी नहीं है। उन्होंने बताया कि दूसरी कंपनी इन बातों पर ध्यान नहीं देतीं इसी वजह से उनके टावर पर लोड बढ़ने से उनकी नेट की स्पीड कम हो जाती है। हिमालय ने बताया कि वह जल्द ही इंटरनेट टीवी और इंटरनेट कॉलिंग की सुविधा भी देने जा रहे हैं।

क्या कहते हैं गो-गोला नेटवर्क के उपभोक्ता: भारतीय स्टेट बैंक शाखा गोला के प्रबंधक उमेश कुमार पांडे का कहना है कि गो-गोला नेटवर्क बहुत तेज काम करता है। समय पर काम निपट रहा है। बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा शाखा प्रबंधक मोहित सिंह का कहना है कि गो-गोला नेटवर्क बहुत बेहतर है। अन्य जगहों पर नेट बंद हो जाते हैं उनकी शाखा में नेट चलता रहता है। कोई काम प्रभावित नहीं हो रहा है|।

पूरे लखीमपुर जिले में फैलाएंगे नेटवर्क: हिमालय का कहना है कि उनकी राह आसान नहीं थी। नौकरी छोड़ने के बाद अपने स्टार्ट अप का सवाल था। वह कम्यूनिकेशन के क्षेत्र में काम करना चाह रहे थे, लेकिन यहां बड़ी बड़ी कंपनियां हैं। इन कंपनियों से मुकाबला कर अपना नेटवर्क उन्होंने उतारा है। कोशिश है कि जल्द ही पूरे जिले में वह नेट कनेक्शन देंगे।

यहां चल रहा है नेटवर्क

शहर की सहकारी गन्ना विकास समिति, चंदन डाइग्नोस्टिक सेन्टर, वी बाजार, उमा देवी, चिल्डें्रस स्कूल, बैंक ऑफ बड़ौदा सिसावां और एसबीआई एटीएम महेशपुर समेत 62 कनेक्शन गो गोला के नेटवर्क से संचालित है।

No comments