Breaking News

हिमाचल में फिर उठी गुड़िया को इंसाफ की आवाज, गुड़िया हम शर्मिदा हैं तेरे कातिल जिंदा है...


हैदराबाद में जानवरों की डॉक्टर से दुष्कर्म मामले के आरोपियों की पुलिस एनकाउंटर में मौत की खबर फैलने के साथ ही हिमाचल में फिर से गुड़िया और उसके परिवार को इंसाफ दिलाने की मांग उठ गई है। सोशल मीडिया पर एक ओर प्रदेश भर के लोगों ने तेलंगाना व हैदराबाद पुलिस की तारीफ की। वहीं सवाल भी उठाया कि आखिर कोटखाई की गुड़िया को इंसाफ कब मिलेगा?

गुड़िया की बुआ और गुड़िया न्याय मंच की संयोजक शारदा दमसेठ ने हैदरबाद एनकाउंटर को सही ठहराया और कहा कि पुलिस ने आरोपियों के साथ सही किया। उन्होंने कहा कि कई बार पुलिस, ऐसे सज़ा दे सकती नहीं है, लेकिन कुछ चीज़ें हैं, जो कानून के दायरे में नहीं आती हैं। इसलिए पुलिस को भी थोड़ी छूट देनी चाहिए। उन्होंने सवाल किया कि जब भी इस तरह की घटनाएं सामने आती हैं तो लगता है कि कब तक महिलाएं के साथ ऐसे मामले होते रहेंगे। आखिर कब तक लड़कियों का रेप होगा और उन्हें जलाया जाएगा?

बता दें, साल 2017 में कोटखाई में हुए गुड़िया दुष्कर्म व हत्याकांड मामले की जांच करने वाली हिमाचल पुलिस की थ्योरी तब पलट गई थी, जब सीबीआई ने अपनी जांच में मामले से जुड़े सूरज लॉकअप हत्याकांड में एक आईजी समेत नौ पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया। वहीं, गुड़िया मामले में सीबीआई ने सिर्फ एक चरानी को गिरफ्तार किया, जिसके बाद उसकी जांच पर भी सवाल उठने लगे।

आम लोगों और खुद गुड़िया के परिजनों ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर तक से मुलाकात कर सीबीआई जांच पर असंतोष जताते हुए निष्पक्ष न्यायिक जांच की मांग की है। हालांकि, सरकार ने अभी तक उस मामले में कोई फैसला नहीं लिया है, बल्कि सूरज हत्याकांड के आरोपी अधिकारियों को बहाल कर उन्हें नई तैनाती भी दे दी है।

No comments