Breaking News

छात्राएं बोली प्रोफेसर शरीर देखकर करता है गंदी बात, मचा पूरे कॉलेज में हडक़ंप


नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज की 13 छात्राओं ने विभाग के एक अस्सिटेंट प्रोफेसर पर छेड़छाड़ सहित अन्य गम्भीर आरोप लगाए हैं। एसपी के पास शिकायत लेकर पहुंची छात्राओं का आरोप है कि विभाग में पदस्थ असिस्टेंट प्रोफेसर उनके पहनावे से लेकर शारीरिक बनावट पर अभद्र टिप्पणी करते हैं। कुछ छात्राओं ने शिकायत करने की बात कही, तो असिस्टेंट प्रोफेसर ने उन्हें यह कहते हुए धमकाया कि इंटर्नशिप में अड़ंगा लगाकर कॅरियर प्रभावित कर देंगे। छात्राओं का आरोप है कि कॉलेज प्रबंधन से इस मामले में शिकायत की गई। लेकिन, कार्रवाई नहीं हुई। एसपी अमित सिंह ने इस मामले में गोरखपुर सीएसपी अमित तोलानी को जांच के निर्देश दिए हैं।
  • 13 छात्राओं ने एसपी से की शिकायत, सीएसपी करेंगे मामले की जांच
  • पहनावे और शारीरिक बनावट पर ‘सर’ करते हैं अभद्र टिप्पणी
  • मेडिकल कॉलेज की छात्राओं ने लगाए सनसनीखेज आरोप

शिकायत में छात्राओं ने बताया कि उन्होंने मेडिकल कॉलेज के एक विभाग में संचालित कोर्स की फाइनल परीक्षा वर्ष 2019 में पास की थी। मई 2019 से इंटर्नशिप शुरू हुई। कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर की ओर से सभी 13 छात्राओं को प्रताडि़त किया जा रहा है। वह लगातार पहनावे और शारीरिक बनावट को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी करते रहते हैं। इसकी वजह से सभी छात्राएं मानसिक पीड़ा से गुजर रही हैं।

पहले भी आ चुका है एक मामला जानकारी के अनुसार मेडिकल कॉलेज में वर्ष 2011 में एक ऐसा ही मामला सामने आया था जिसमें एक छात्रा को पास कराने के नाम पर उससे अस्मत की मांग की गई थी। इस घटना से मेडिकल कॉलेज फिर चर्चा में आ गया।

प्रबंधन ने किया शिकायत को नजर अंदाज: छात्राओं का कहना है कि उन्होंने पूर्व में कॉलेज के डीन, विभागीय हेड ऑफ डिपार्टमेंट और कोऑर्डिनेटर से शिकायत की, तो वहां से भी मदद नहीं मिली। कहा गया कि पढ़ाई पर ध्यान दो, बेकार की बातों में समय व्यर्थ मत करो। असिस्टेंट प्रोफेसर की मौजूदगी से छात्राएं असुरक्षित महसूस करती हैं। वे धमकी देते हैं कि अड़ंगा लगा दिया तो इंटर्नशिप पूरा नहीं हो पाएगी।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कॉलेज की छात्राओं ने फिजियोथैरपी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर के खिलाफ गम्भीर आरोप लगाते हुए शिकायत दी है। प्रकरण की जांच सीएसपी गढ़ा को सौंपी है।

छात्राओं की शिकायत मेरे तक नहीं पहुंची है। शिक्षक के चरित्र पर सवाल उठना गम्भीर विषय है। इस मामले में वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया जाएगा।

अजय फौजदार, कोऑर्डिनेटर फिजियाथैरपी मेरे पास असिस्टेंट प्रोफेसर को लेकर किसी तरह की शिकायत नहीं पहुंची है। यदि ऐसा है तो विभागीय जांच कर कार्रवाई करेंगे।

- डॉ. एचएस वर्मा, प्रभारी फिजियोथैरेपी छात्राओं की शिकायत प्राप्त नहीं हुई है। कार्यालय में शिकायती पत्र यदि भेजा है तो वह अभी सामने पुटअप नहीं हुआ है। मामले में जानकारी ली जाएगी। शिकायत सही मिलने पर कड़ी कार्रवाई होगी।

- डॉ. पीके कसार, डीन

No comments