Breaking News

रीढ़ की हड्डी के दर्द से हैं परेशान तो इस तरह करें ये उपाय


अगर आपकी रीढ़ की हड्डी में लगातार दर्द रहता है तो यह लेख आपके लिए है। आजकल के रहन सहन और गलत आदतों से इंसान के शरीर में कई बीमारियां और रोग पनप रहे हैं। इन सबका कारण घुमा फिरा के रहन सहन और आपकी दिनचर्या पर निर्धारित रहता है। रीढ़ की हड्डी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले आपको उस दर्द की वजह खोजनी अत्यंत आवश्यक है। 

कुछ कारण जो रीढ़ की हड्डी के दर्द को बढ़ने में योगदान देते हैं वो हैं-
  • ऑफिस में लगातार कुर्सी पर बैठना
  • न्यूनतम ज़रुरत से कम पानी पीना
  • अच्छा आहार न लेना
  • कम सोना
  • बढ़ती उम्र
  • वजन उठाने वाले व्यायाम
इन कारणों के आलावा कुछ और भी अवस्थाएं हैं जिनसे कई लोगों को रीढ़ की हड्डी में दर्द का सामना करना पड़ता है, जैसे:
  1. आर्थराइटिस
  2. ऑस्टियोआर्थराइटिस
  3. आंक्यलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस
  4. पार्श्वकुब्जता
  5. ट्यूमर
  6. गर्भावस्था
रीढ़ की हड्डी के दर्द से हर कोई छुटकारा पाना चाहता है। चाहे दर्द छोटा हो या बड़ा, काम में बाधा ज़रूर डालता है। इस दर्द से पीछा छुड़ाने के लिए सबसे अच्छा उपाय है विशेषज्ञ डॉक्टर की सलाह। अगर आप अपने दर्द से परेशान हैं तो डॉक्टर से जांच करवाना अत्यंत आवश्यक है। डॉक्टर आपको आपके रीढ़ की हड्डी में दर्द का सही कारण और इलाज बताने के लिए एक सही चुनाव है। एक बड़ी एहम बात यह है की रीढ़ की हड्डी में दर्द के लिए अगर सही समय पर इलाज नहीं करवाया तो आगे चलकर ये आपको कई और मुसीबतों से रुबरु करवा सकता है। स्पाइन विशेषज्ञों का कहना है की लगातार हड्डियों में दर्द एक बड़ी रोग की चेतावनी है।

अब बात करते हैं की रीढ़ की हड्डी में दर्द से छुटकारा पाने के लिए आपको क्या करना चाहिए और किन बातों का ध्यान रख कर आप अपने दर्द को अलविदा कह सकते हैं

रीढ़ की हड्डी के दर्द से बचने के उपाय अगर आपकी रीढ़ की हड्डी में लम्बे समय से दर्द है तो ज्यादा कठोर या ज्यादा नरम बिस्तर पर ना सोएं।

अपने पोस्चर का रखें ध्यान, कंप्यूटर पर काम करते हुए बहुत देर तक ना बैठें दो दो मिनट का गैप हर डेढ़ दो घंटे में अवश्य लें। टेबल और चेयर पर काम करते हुए झुक कर ना बैठें, ऐसा करने से रीढ़ की हड्डी पर ज्यादा प्रभाव पढता है।

रीढ़ की हड्डी को स्थिर करने के लिए पेट और पीठ की मांसपेशियों को मज़बूत बनाएं। स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज पर ध्यान दें और भारी चीज़ें उठाने में सावधानी बरतें और सही तरीके से उठाएं।

शारीरिक और मानसिक तनाव खुदपर हावी ना होने दें । योग और व्यायाम इसका सबसे अच्छा उपाय माना गया है। स्वस्थ वजन बनाये रखें। अधिक भारी या अधिक हल्का वज़न भी आपके रीढ़ की हड्डी में दर्द का एक प्रमुख कारण हो सकता है।

खड़े होते समय और बैठते समय अपने शरीर का पोस्चर ठीक रखें, इससे आपके रीढ़ की हड्डी में ज्यादा दबाव नहीं बनेगा और आप ऐसी किसी समस्या से बचे रहेंगे।

कुशल नींद भी आपके रीढ़ की हड्डी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
धूम्रपान को त्याग दें। धूम्रपान से आपका शरीर कमज़ोर होता है और हड्डियों की ताकत भी घटती है ।

अगर आप मदिरा का सेवन करते हैं तो उसे न्यूनतम कर दें। पुरुषों के लिए दो ड्रिंक्स और महिलाओं के लिए एक ड्रिंक से ज्यादा पीना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है।

तो उप्पर लिखी बातें अगर आपने अपनी जीवन शैली में जोड़ दी तो आप रीढ़ की हड्डी के दर्द से छुटकारा पा सकते हैं। परन्तु ध्यान देने वाली बात यह है की अगर आप बहुत लम्बे समय से रीढ़ की हड्डी के दर्द से परेशान हैं तो एक स्पाइन विशेषज्ञ से जांच ज़रूर करवाएं।

No comments