Breaking News

हिमाचल के जिला सोलन के मदन लाल, शरीर की टूटी हड्डियों व बंद पड़ी नसों का करते हैं इलाज


आज बहुत से लोग किसी न किसी क्षेत्र में सामाजिक कार्य कर रहे हैं और सामाजिक कार्यों के लिये ऐसे लोग हमेशा ततपर रहते है। दूसरों की सेवा करने में इन्हें हमेशा खुशी मिलती है। ऐसे ही एक शख्सियत मदन लाल जोकि हिमाचल प्रदेश जिला सोलन कुनिहार के साथ लगती खरड़हट्टी पंचायत के गांव पलयाड के निवासी है 65 वर्षीय मदन लाल निस्वार्थ भाव से यह काम कर रहे हैं और लगभग 42 वर्षों से अपने हुनर द्वारा बहुत से मरीजों को ठीक कर चुके है। गौर रहे की शरीर मे हड्डीयों या नसों सबंधित कोई भी बीमारी के लिए तो मदन लाल अर्की तहसील में मशहूर है।परंतु अपने इस हुनर के कारण पूरे हिमाचल में जाने जाते है

जी हां अगर किसी के हाथ, पैर, बाजू व टांगे टूटने,मोच आने या सुन होकर अकड़ जाते है या किसी दुर्घटना में चोट के कारण शरीर का कोई हिस्सा सुन व टुट जाता है तो वह मालिश व अपने हाथों से रस्सी व लकड़ी के सहारे पुरानी विधि द्वारा इलाज करते है। जो मेडिकल साइंस में भी कई बार विफल हो जाता है ऐसे बहुत सारे उदाहरण हैं जो मरीज खुद अपनी जुबानी बताते हैं मदन लाल को शरीर के अंगों के टुट - फुट जाने मांसपेशियों में खिंचाव आ जाने से असहनीय दर्द को भी ठीक करने में महारत हासिल है।

शिमला मतियाना के अमित ने बताया कि उनके शरीर के नीचले हिस्से ने काम करना बन्द कर दिया था कई जगहों से स्वास्थ्य लाभ लेने के बावजूद ठीक नहीं हो पा रहा था PGI चंडीगढ़ में इलाज करने के बावजूद भी कोई असर नही पड़ा।उसी दौरान किसी ने मदन लाल के पास एक बार दिखाने की सलाह दी। कुनिहार के नजदीक पलयाड गांव में मदनलाल के पास ले जाने के बाद उन्होंने उनके शरीर के हिस्सों को बारिकी से देखा व उपचार किया। मदनलाल ने बताया कि नसों को सही ढंग से बैठाना व शरीर की हिस्सों को गलत तरीके इलाज करने की वजह से इनकी शरीर मे दिक्कत आ गई थी जिस कारण से नसे ठंडी और कमजोर पड़ गई थी। करीब 1 हफ्ते के बाद अब अमित अपने बल पर आसानी से चलने फिरने लगा है

मदन लाल की मानें तो मोच आने व हड्डी टूटने पर डॉक्टर प्लास्टर करता है परंतु मरीज की दर्द व शरीर का हिस्सा सही ढंग से नही बैठ पाता है नसों की बीमारी एक्स-रे में भी नहीं आती है

कई बार ऐसे मरीज igmc शिमला व pgi चंडीगढ़ से भी वापस आकर मेरे पास ठीक हुए हैं। बिल्कुल साधारण दिखने वाला मदनलाल में असाधारण अलौकिक गुण हैं जिनके कारण वह लोगों की सेवा करते है प्रचार प्रसार से कोसों दूर इस शख्सियत के पास न जाने कहां कहां से ऐसे मरीज रोज आ जाते हैं जिनकी वह बिना किसी भेदभाव के सेवा करते है।

कुनिहार के रहने वाले भूपेंद्र का पैर फैक्चर हुआ।जिस पर डॉक्टर ने प्लास्टर चढ़ा दिया जिनका इलाज चंडीगढ़ में चल रहा था।प्लास्टर उतरने के बाद उनके पांव में काफी दर्द रहती थी औऱ पांव का आकार भी टेड़ा हो गया था प्लास्टर खुलने के बाद वह तुरंत मदन लाल के पास गए व अपना इलाज करवाया। भूपेंद्र का कहना है कि मदनलाल के हाथों में कुछ ऐसा जादू है दर्द उनके छुने से ही गायब हो जाती है।आज मेरा पैर उनकी बदौलत ठीक हुआ है।

मदनलाल का कहना है कि वह 15 वर्ष की उम्र से ही कुश्ती खेलने लग गए थे एक बार खुद की हड्डिया भी कुश्ती खेलते खेलते टूट गई थी परंतु 15 दिन खुद उपचार करने के बाद उन्होंने फिर से कुश्ती खेलना शुर कर दिया। 32 वर्षों तक वो इलाके के जाने माने पहलवान भी रह चुके है उनका मानना है

कि उन्हें ईश्वर की अनुकंपा से यह सेवा करने का मौका मिला है।ईश्वरीय वरदान है जिसकी वजह से मरीज अपने आप हाथ लगाते ही ठीक हो जाते हैं मैं निस्वार्थ ही इस सेवा को पिछले 42 वर्षों से कर रहा हूं कभी-कभी तो 25-30 लोग भी रोजाना पहुंच जाते हैं।अगर कोई इंसान लाचार है और वो यंहा नही आ सकता तो उनके उपचार के लिये उनके स्थान पर भी जाता हूं अगर मरीज को दर्द से छुटकारा मिलता है और वह मेरी वजह से ठीक हो जाता है तो उस से बड़ी मेरे लिए खुशी की बात क्या होगी।

शरीर मे किसी भी प्रकार की दिक्कत हो तो आप उन्हें 9418611868 पर सीधा सम्पर्क कर सकते है।

No comments