Breaking News

सरकारी हों या प्राइवेट, इलाज के लिए मना नहीं कर सकते अस्पताल : DGP


भारत सरकार के आदेशानुसार कोई भी अस्पताल सरकारी हो या प्राइवेट, किसी को इलाज के लिए इसलिए मना नहीं कर सकता कि उसका कोरोना वायरस का टैस्ट नहीं हुआ है। डीजीपी एसआर मरड़ी ने कहा कि रूटीन चैकअप के लिए कोरोना वायरस के टैस्ट की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि पंचायत सचिव पर हमला करने से जुड़े मामले में पुलिस सख्ती से कार्रवाई करेगी। डीजीपी ने कहा कि डल्हौजी में एक व्यक्ति पंजाब से हिमाचल लौटा, ऐसे में पंचायत सचिव ने उसे क्वारंटाइन में रहने के लिए कहा तो व्यक्ति ने उस पर हमला कर दिया जो बेहद निंदनीय है।

राज्य में पिछले 6 दिन में कोरोना का कोई नया मामला नहीं

उन्होंने कहा कि राज्य में पिछले 6 दिन में कोरोना वायरस का कोई भी नया मामला सामने नहीं आया है। इस वक्त प्रदेश के अंतर्गत 10 मरीज अस्पताल में उपचाराधीन हैं और 25 अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि यह संतोषजनक स्थिति है, लेकिन भारत वर्ष में एक ही दिन में 1900 केस बढ़े हैं और 73 मौतें हुई हैं, जो संतोषजनक नहीं है। ऐसे में सभी को बहुत ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है और कोविड-19 को लेकर जारी आदेशों की पालन करना सभी के लिए अनिवार्य है। डी.जी.पी. ने प्रदेश के तमाम रोटरी और लायंस क्लब से आगे आकर मदद करने की अपील की।

बाहर से आने वालों की प्रशासन या पुलिस को दें सूचना

डीजीपी ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति किसी के आस-पड़ोस में बाहर से आया है और लगता है कि प्रशासन को इसके बारे में जानकारी नहीं है तो जिला प्रशासन या पुलिस को सूचित करें।

No comments