Breaking News

दुःखद खबर : हिमाचल में महामारी का कहर, पहली बार 1 दिन में 10 पॉजिटिव मामले आए


शिमला: हिमाचल में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए कोई इलाज उपलब्ध नहीं है, ना ही कोविड 19 का कोई टीका ही विकसित किया गया है। इस हिसाब से आप कोरोना से बचने के लिए आप सोशल डिस्टेंसिन्ग और जो जहां है वहीं रहने की सलाह पर अमल कर सकते हैं।

लॉक डाउन यह चौथा चरण देश के लिए काफी अहम है। इसलिए केंद्र सरकार ने सभी को कोरोना वायरस से मिल कर लड़ने को लेकर लॉक डाउन 4.0 में भी कड़ी हिदायतें दी है। केंद्र सरकार बार बार देश के लोगों और प्रदेश की सरकारों को सख्ती से लॉकडाउन का पालन करने को कह रही है, लेकिन कुछ प्रदेश की सरकारें और वहाँ के लोग इस भयावह स्थिति को समझने को तैयार ही नहीं है और इस महामारी को हल्के में ले कर जो जहां है वहीं रहने और सामाजिक दूरी जैसे अहम जीवन उपयोगी सुरक्षा नियमो को ठेंगा दिखा कर संक्रमण को बुलावा दे रहे है।

कभी कोरोना मुक्त होने की दहलीज तक पहुंच चुके हिमाचल में सोमवार को एक ही दिन में कोरोना पॉजिटिव के रिकॉर्ड 10 नए मामले सामने आए हैं। हमीरपुर जिला में पांच, बिलासपुर में तीन जबकि कांगड़ा-चंबा में एक-एक मामला आया है। तीन मरीज सुजानपुर क्षेत्र तो दो नादौन उपमंडल के हैं। ये सभी हाल ही में मुंबई से लौटे हैं।

चंबा में पहले पति, फिर बेटी और अब अस्पताल में देखरेख में जुटी मां वायरस की चपेट में आ गई हैं। कांगड़ा जिले के मनेड़ गांव में गुरुग्राम से लौटे कोरोना पॉजिटिव युवक की पत्नी संक्रमित हुई हैं।

वहीं, बिलासपुर के स्वारघाट क्वारंटीन सेंटर में रखे तीन और लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। ये लोग गुजरात और दिल्ली से लौटे हैं। हमीरपुर के संक्रमित लोगों के नमूने बीते 16 मई को लिए गए थे।

नादौन उपमंडल की ग्राम पंचायत नौहंगी के चौकी राजपूतां गांव के 60 वर्षीय व्यक्ति 12 मई को मुंबई से लौटे थे और बूणीं में संस्थागत संगरोध में थे। गलोड़ तहसील के खुंगल के 47 वर्षीय व्यक्ति 14 मई को मुंबई से लौटे थे और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कश्मीर में संस्थागत संगरोध में थे। इनके साथ पत्नी और तीन बच्चे भी हैं। टौणी देवी क्षेत्र के ग्वारड़ू गांव का 54 वर्षीय तीसरा मरीज टैक्सी चालक है और 10 मई को मुंबई से लौटा है। यह व्यक्ति घर पर ही संगरोध में था।

50 वर्षीय चौथी महिला मरीज टौणी देवी क्षेत्र के रेड़ू पधर गांव की है और 14 मई को मुंबई से लौटी है। पांचवां 20 वर्षीय युवक भी पधर गांव का है और कोरोना संक्रमित महिला का नजदीकी रिश्तेदार है। उपायुक्त हरिकेश मीणा ने कहा कि कोरोना संक्रमित चार व्यक्तियों को डुग्घा जबकि एक को भोटा स्थित कोविड-19 केयर सेंटर में शिफ्ट किया गया है।

नए मामलों के साथ हिमाचल में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 90 पहुंच गया है। इनमें 41 सक्रिय मामले हैं जबकि 42 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं। चार लोग इलाज के लिए बाहर गए हैं तो कांगड़ा, मंडी और हमीरपुर के तीन लोगों की मौत हो चुकी है। सोमवार को हमीरपुर और ऊना का एक-एक मरीज ठीक हो गया है। इन्हें मंगलवार को अस्पताल से घर भेज दिया जाएगा।

No comments