Breaking News

लॉकडाउन 5.0 से पहले हुई 145 हॉटस्पॉट जिलों की पहचान, सरकार ने दी ये चेतावनी


कोरोना वायरस पूरी तरह अपना पैर पसार चुकी है इसी कारण पूरी दुनिया कोरोना वायरस से परेशान है . इसके लिए सरकार अपनी पूरी ताकत लगा रही है साथी आम जनता भी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अपनी नए-नए नीति अपना रहे हैं जिसे कोरोना वायरस से बचा जा सके जैसे सोशल डिस्टेंसिंग , सैनिटाइजर, मास्क etc लॉकडाउन का चौथा चरण इस समय चल रहा है, जो आने वाले रविवार, 31 मई को समाप्त हो रही है। ऐसे में लॉकडाउन-5 को लेकर चर्चा चल रही है। देश में जारी लॉकडाउन के दौरान कई तरह की पाबंदियां लगी हुई हैं।

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, ”गृह मंत्री ने सभी मुख्यमंत्रियों से बातचीत की और लॉकडाउन को 31 मई के बाद बढ़ाए जाने पर उनके विचार जाने।” मुख्यमंत्रियों के साथ अपनी बातचीत के दौरान शाह ने राज्यों के चिंताजनक स्थिति वाले क्षेत्रों के बारे में उनके विचार जाने और 1 जून के बाद किन क्षेत्रों को खोलना चाहते हैं, इस बारे में भी उनसे राय ली गई।

दिलचस्प है कि अभी तक हर चरण में लॉकडाउन बढ़ाने के पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बात कर उनके विचार जान रहे थे। पहली बार गृह मंत्री ने लॉकडाउन के एक और चरण के खत्म होने के पहले मुख्यमंत्रियों से बात कर उनके विचार जाने है। चौथे चरण में काफी ढील दी गई और कई फैसले राज्यों पर छोड़ दिए गए थे। बहरहाल दो दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी राज्यों से फीडबैक लेने के बाद 1 जून से लॉकडाउन 5.0 की घोषणा कर सकते हैं. चूंकि सरकार के लिए कोरोना वायरस एक बड़ी चुनौती बना हुआ है.

इन 145 जिलों के लिए सरकार ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि अगर कोरोना वायरस के रोकधाम के उपायों को नहीं अपनाया गया। तो इस बीमारी के उपकेंद्र बनकर ये जिले सामने आएंगे। गुरुवार को सभी राज्यों के प्रतिनिधियों से बात करते हुए कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने बताया कि पूर्वी भारत कोरोन वायरस का एक नया हॉटस्पॉट बनकर उभर सकता है। लॉकडाउन की वजह से अधिकतर प्रवासी पलायन कर रहे है और पलायन करने वाले मजदूरों में ज्यादातर लोग पूर्वी भारत के राज्यों से ही है ऐसे में इन राज्यों में कोरोना वायरस का खतरा बढ़ता जा रहा है।

No comments