Breaking News

मंडी में कोरोना पीड़ित परिवार की मदद को आगे आया गांव, फसल काटकर घर पहुंचाई


मंडी में कोरोना पीड़ित परिवार की मदद को आगे आया गांव, फसल काटकर घर पहुंचाई – कोरोना से अपने बेटे की जान गंवा चुके मंडी जिले की चौक ब्राड़ता पंचायत के परिवार के लिए गांव के लोगों ने भाईचारे और मानवता की मिसाल कायम की है। लगभग दो दर्जन युवाओं और महिलाओं ने कोरोना से जान गंवाने वाले 21 वर्षीय युवक के परिवार की खेतों में बर्बाद हो रही गेहूं की फसल की कटाई और ढुलाई करके मिशाल पेश की है। गांव के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए फसल की कटाई और ढुलाई की।

गौरतलब है कि बीते दिनों IGMC शिमला में 21 वर्षीय युवक की मौत के बाद उसकी माता भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई थीं। उनका इलाज चेलचौक के COVID-19 अस्पताल में चल रहा है। मृतक युवक के ताया को भी संस्थागत क्वारंटीन रखा गया है।

शोकाकुल परिवार के जो सदस्य घर पर हैं वो नियमों का पालन करते हुए घर से बाहर नहीं निकल रहे हैं। मौसम की बेरुखी और परिवार की दयनीय हालत को देखते हुए ब्राड़ता गांव के लोगों ने खुद बीड़ा उठाते हुए मदद के हाथ बढ़ाए।

गांव के विक्रांत, विकास, अंकेश, लीला, बीना, पूजा, बिमला, शांता, रमिता आदि महिलाओं और युवाओं ने संकट की इस घड़ी में परिवार के प्रति अपनी एकजुटता दिखाई।

गांववासियों ने उन सभी लोगों का भी आभार प्रकट किया है जिन्होंने परिवार की आर्थिक और सामाजिक रूप से मदद की है।

पूर्व जिला परिषद सदस्य डॉ. जय कुमार आजाद, समाजसेवी चंद्रमोहन शर्मा, चौक पंचायत के उप प्रधान राकेश पालसरा, पूर्व प्रधान नत्थू राम, रोपड़ी पंचायत की प्रधान छवि चंदेल, उप प्रधान सुभाष बनेर, परसदा के राजिंद्र ठाकुर, पपलोग के उप प्रधान बीटू शर्मा, पूर्व प्रधान तारा चंद्र, चौरी पंचायत के समाजसेवी सुनील शर्मा, पूर्व अध्यापक हिम्मत राम, डॉ. पदमनाभ, डॉ. प्रेमनाथ, रीना पालसरा, ओसी शर्मा, खानेदार भागीराम, पूर्व उप प्रधान राजपाल, अजय पालसरा, विक्की पालसरा, संतोष, खानेदार रोशन पालसरा, विनय राणा, शिवजी चंदेल आदि लोगों ने गांव लोगों की प्रशंसा की है।

No comments