Breaking News

जब अमिताभ को इस रोल करते देखकर गुस्सा होकर थियेटर से बाहर चली गईं थीं जया


आज बॉलीवुड में ऐसी कई फिल्मे है जो सिर्फ अपने गांव की वजह से सिनेमा हॉल में टिक पायी और कारोबार कर पायी | कई फिल्मो को आज भी उनके गानों की वजह से ही याद किया जाता है | साल 1981 में अमिताभ की फिल्म लावारिस इसका जीता जागता उदाहरण है |

जहाँ तक है आपको ये फिल्म याद नहीं आ रही होगी | आपकी मदद के लिए बता दे मेरे अँगने में तुम्हारा क्या काम है ये गाना इसी फिल्म का है | बता दे इस गाने की बदौलत ही ये फिल्म चल पायी थी, और इसकी दूसरी वजह खुद अमिताभ भी थे |

ये वो दौर था जब हर कोई अमिताभ को अपनी फिल्म में लेना चाहता था | अमिताभ पर आँख बंद कर पैसा लगाया जा रहा था | उस दौर में किसी फिल्म में अमिताभ का होना फिल्म के होने की गारंटी के तौर पर देखा जाता था | उस समय कोई सोच भी नहीं सकता था कि अमिताभ की लोकप्रियता में कोई कमी आ सकती है |

लावारिस फिल्म में अमिताभ थे और उस दौर की सुपरहिट और सफलता की गारंटी वाली एक्ट्रेस जीनत अमान थी | इसके साथ ही अमजद खान ने फिल्म को चार चाँद लगा दिए | लेकिन बता दे यदि फिल्म में मेरे अँगने.... गाना नहीं होता तो फिल्म का चलना नामुमकिन था |

हालाँकि अपनी इस फिल्म को लेकर अमिताभ को खूब आलोचना झेलनी पड़ी | जब वे चुनाव में खड़े हुए तो विरोधी उनके पोस्टर लगाकर उनका मजाक उड़ाते थे | बता दे राजीव गाँधी अमिताभ के ख़ास दोस्त थे और अपने दोस्त के कहने पर ही अमिताभ चुनाव में खड़े हुए और UP के पूर्व CM को हराने में सफल हुए | बता दे लावारिस फिल्म के कई सालो बाद भी उन्हें 'नचनियां' कहकर बुलाया जाता था |

लेखक सौम्य बंधोपाध्याय ने अपनी किताब अमिताभ बच्चन में लिखा है कि "प्रिव्यू थियेटर में बैठकर इस फिल्म को पहली बार देखते समय जया बच्चन गुस्से से बाहर निकल गई थीं | उन्हें ये गीत और साथ के सीन बहुत अश्लील लगे थे | लेकिन ये वही गाना था जिसे अमिताभ 5 साल की उम्र से सुनते चले आ रहे थे। इसी अश्लीलता और गीत के बोल बाद में इतने लोकप्रिय हुए कि अमिताभ बच्चन के स्टेज शो में ये गाना आकर्षण बन गया। सिर्फ देश में ही नहीं विदेशों में भी। इतना ही नहीं, अभी भी वह जिसकी बीवी छोटी' गाने के समय जया को स्टेज पर बुलाते रहते हैं और जया को भी आना ही पड़ता है |

No comments