Breaking News

बड़ा झटका: जिस दवा को समझा जा रहा था कोरोना वायरस की काट, WHO ने उसी का ट्रायल रोका


Coronavirus: वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने सोमवार को Covid-19 संक्रमितों के इलाज के लिए मलेरिया की दवा Hydroxychloroquine के इलाज पर अस्थायी रूप से रोक लगा दी। WHO ने कहा कि उसने एहतियात के तौर पर यह कदम उठाया है। कई देश Covid-19 संक्रमितों के इलाज के लिए इस दवा के उपयोग पर पहले ही बैन लगा चुके हैं। भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कुछ दिनों पहले ही एडवाइजरी जारी कर इस दवा के अधिक इस्तेमाल को मंजूरी प्रदान की थी।

WHO का कहना है कि उसने यह फैसला उस रिपोर्ट के आधार पर लिया जिसमें दावा किया गया है कि हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन के इस्तेमाल से कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत की संभावना बढ़ जाती है।

उल्लेखनीय है कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पिछले दिनों मलेरिया और अन्य बीमारियों के उपचार में उपयोग में लाई जाने वाली दवा हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन को Covid-19 संक्रमित मरीजों के उपचार में प्रयोग को लेकर चेताया था।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को ही बताया था कि उन्होंने हाल ही में हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन का दो सप्ताह का कोर्स खत्म किया है। लेकिन डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस ने कहा कि इससे हार्ट प्रॉब्लेम जैसे कई नुकसानदायक साइड इफेक्ट्स होने के सबूत मिले हैं। ब्रिटिश जर्नल द लेंसेट की शुक्रवार को प्रकाशित रिपोर्ट में बताया गया था कि हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन Covid-19 मरीजों की मदद नहीं करता है बल्कि इससे मौत का खतरा बढ़ सकता है। कार्यकारी समूह ने सॉलिडैरिटी ट्रायल के अंदर हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन के उपयोग पर अस्थायी रोक लगाई है जब तक डेटा सुरक्षा निगरानी बोर्ड इसके सुरक्षा डेटा की समीक्षा नहीं कर लेता है।

No comments