Breaking News

हिमाचल प्रदेश के शिमला, हमीरपुर और सोलन जिले में 30 जून तक के लिए कर्फ्यू बढ़ाया गया


शिमला: देश में लागू लॉकडाउन के मौजूदा चरण के 31 मई को पूरा होने के बाद भी हिमाचल प्रदेश के शिमला, हमीरपुर और सोलन जिलों में एक महीने तक कोविड-19 कर्फ्यू जारी रहेगा. शिमला, हमीरपुर और सोलन के जिलाधिकारियों ने सोमवार को अपने-अपने क्षेत्रों में 30 जून तक कोविड-19 कर्फ्यू बढ़ाने के आदेश जारी किए. हिमाचल कैबिनेट ने जिला उपायुक्तों को जरूरी लगने पर कर्फ्यू बढ़ाने का अधिकार दिया था. इन जिलों में कर्फ्यू और लॉकडाउन में हर रोज कई घंटे की ढील रहती है. कर्फ्यू के समय आवश्यक सेवाएं खुली रहती हैं.

अधिकारियों ने कहा कि यह जारी रहेगा. हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के कुल मामलों में से एक चौथाई मामले हमीरपुर जिले में हैं. राज्य में घातक विषाणु संक्रमण के अब तक कुल 214 मामले सामने आए हैं जिनमें से हमीरपुर में सर्वाधिक 63 और सोलन में 21 मामले हैं.

राज्य में कोविड-19 से अब तक पांच लोगों की मौत हुई है. अधिकारियों के अनुसार, देश के दूसरे हिस्सों से बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों के लौटने के बाद हमीरपुर में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि हुई. राज्य में इस समय कोरोना वायरस के 142 मरीजों का अस्पतालों में इलाज चल रहा है. इनमें से 57 हमीरपुर में हैं. जिलाधिकारी हरिकेश मीणा ने कहा कि पिछले 30 दिन में देश के विभिन्न रेड जोन से 10 हजार से अधिक लोग हमीरपुर लौटे हैं.

हिमाचल प्रदेश में 72 साल की महिला की कोविड-19 से मौत होने के बाद राज्य में बीमारी के कारण मरने वालों की संख्या पांच हो गई है. अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि 10 और लोगों में संक्रमण की पुष्टि होने के बाद संक्रमण के कुल मामले 214 पर पहुंच गए हैं. उन्होंने बताया कि अब तक 67 लोग स्वस्थ हुए हैं और राज्य में संक्रमितों की संख्या 142 बनी हुई है.

राज्य में सामने आए कोविड-19 के 10 नये मामलों में से चार चंबा से, तीन शिमला से, दो कांगड़ा से और एक हमीरपुर से है. इनमें से चार-चार लोग मुंबई और तमिलनाडु से लौटे हैं जबकि दो अहमदाबाद से वापस आए हैं. जिले के एक अधिकारी ने बताया कि चंबा के चारों संक्रमित हाल में तमिलनाडु से लौटे थे. दो 18 मई को चेन्नई से विशेष ट्रेन से लौटे थे जबकि अन्य दो एक वाहन से आए थे.

शिमला के उपायुक्त अमित कश्यप ने कहा कि शिमला के तीन लोग 18 मई को मुंबई से विशेष रेलगाड़ी से लौटे थे. साथ ही बताया कि वे देहात में संस्थागत पृथक-वास में हैं.हमीरपुर के उपायुक्त हरिकेश मीणा ने बताया कि वहां 25 वर्षीय युवती कोरोना संक्रमित पाई गई है. वह 22 मई को मुंबई से अपने ससुराल से लौटी थी. उसका 29 वर्षीय पति कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमित पाया गया था.

कांगड़ा के उपायुक्त विमुक्त रंजन ने बताया कि अहमदाबाद से लौटे दो लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. उन्होंने बताया कि जिले में चार लोग बीमारी से स्वस्थ हो गए हैं. साथ ही बताया कि यहा बैजनाथ में कोविड-19 देखभाल केंद्र में भर्ती कराए गए चार लोग जांच में नेगेटिव पाए गए और उन्हें छुट्टी दे दी गई.

अधिकारियों ने बताया कि राज्य में सबसे अधिक 57 संक्रमित हमीरपुर में हैं. इसके बाद कांगड़ा में 35, उना में 13, सोलन में 11, मंडी में नौ, चंबा में सात, बिलासपुर में चार, शिमला में तीन, सिरमौर में दो और कुल्लू में एक मामला है. राज्य में कोविड-19 से मरने वाला पांचवा व्यक्ति 72 वर्षीय बुजुर्ग महिला है.

शिमला के इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज (आईजीएमसी) के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक जनक राज ने बताया कि शनिवार को महिला के कोविड-19 से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी और रविवार रात अस्पताल में उनकी मौत हो गई. उन्होंने बताया कि महिला को कई बीमारियां थी और उनकी स्थिति बिगड़ने पर उन्हें हमीरपुर से आईजीएमसी भेजा गया था. साथ ही बताया कि उनके पति में बृहस्पतिवार को संक्रमण की पुष्टि हुई थी.

इससे पहले हमीरपुर जिले के 52 वर्षीय मरीज की 15 मई को मंडी के लाल बहादुर शास्त्री सरकारी अस्पताल में कोविड-19 से मौत हो गई थी. पांच मई को मंडी के सरकाघाट के 21 वर्षीय युवक की शिमला में मौत हो गई थी. इससे पहले दो अप्रैल और 23 मार्च को दो बुजुर्गों की इस घातक बीमारी के चलते मौत हो गई थी.

No comments