Breaking News

'अभी कैंप पहुंचकर फोन करता हूं'...शहीद अश्वनी की पत्नी अभी भी कर रही फोन का इंतजार


आदित्य की मम्मी हमारी पेट्रोलिंग ड्यूटी खत्म हो गई है, हम साथियों के साथ कैंप जा रहे हैं। वहां पहुंचकर तुम्हें फोन करते हैं। हम लोग अभी रास्ते में हैं...यह कहते हुए अश्वनी कुमार यादव ने फोन काट दिया। पत्नी अंशु अब भी अपने पति शहीद अश्वनी कुमार यादव के फोन का इंतजार कर रही है। उसे क्या पता था कि यह उनका अंतिम फोन था। इसके बाद वह उससे कभी बात नहीं करेगा। यह कहकर पत्नी रोने लगती है और अचेत होकर कई बार गिर जाती है।

जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा के काजियाबाद में आतंकी हमले में गाजीपुर के अश्वनी कुमार यादव के शहीद होने की खबर सुनकर उनके घर और पूरे गांव में मातम छाया हुआ है। वह बीते जनवरी माह में दो माह की छुट्टी लेकर घर आए थे। 27 फरवरी 2020 को जम्मू कश्मीर पहुंचे। वहां जाने के बाद प्रतिदिन समय मिलने पर दो से तीन बार घर का हाल चाल लेते। पत्नी, बच्चों और माता-पिता से बातचीत करते थे। यह अश्वनी कुमार की रोज की दिनचर्या थी।

सोमवार शाम वहां से फोन न आने पर अश्वनी की पत्नी अंशु ने पति को फोन किया था, तब उन्होंने बताया था कि आज हम लोग पेट्रोलिंग ड्यूटी पर थे, अब खाली हो गए हैं। कैंप में पहुंचकर तुम्हें फोन करते हैं। लेकिन यह अंतिम फोन था, बात क्या करनी थी वह अधूरी रह गई।

अंशु पति के फोन का इंतजार करती रह गई। इसके बाद रात आठ बजे के करीब उनके शहीद होने का समाचार मिला तो अंशु को अपने कानों पर यकीन नहीं हुआ। वह कह रही थी, नहीं उन्होंने मुझसे वादा किया है कि वह कैंप में पहुंच कर फोन करेंगे। वह वादे के पक्के हैं, उनका फोन जरूर आएगा।

No comments