Breaking News

13 साल पहले वैज्ञानिको ने दी थी चेतावनी, कहा था 'चीन में दुनिया के लिए है टाइम बम'


कई बार सुरक्षा या किसी चीज को लेकर दी जा रही चेतावनी को लोग हल्के में लेते है, उन पर कोई अमल नहीं करते | लेकिन फिर जब कोई घटना घटित होती है, तो उस पर लोगो का ध्यान जाता है | बता दे कोरोना वायरस को लेकर भी ऐसा ही हुआ है |

विश्व प्रसिद्ध मैगज़ीन द अटलांटिक में छपी रिपोर्ट के अनुसार Clinical Microbiology Reviews की 2007 की रिपोर्ट में ही वैज्ञानिको ने कोरोना वायरस को लेकर आगाह किया था | वैज्ञानिको ने कोरोना को लेकर चेतावनी देते हुए कहा था कि चीन में एक टाइम बम है |

Clinical Microbiology Reviews की 2007 की रिपोर्ट में छपा था कि चीन के एक चमगादड़ की प्रजाति में SARS -CoV जैसा एक वायरस मौजूद है | चीन में ऐसे जानवरो को खाने का प्रचलन है, ऐसे में ये एक टाइम बम है |

बता दे इस रिपोर्ट के छपने के 5 साल पहले ही SARS वायरस भयानक तबाही मचा चूका था | बता दे 2002 में SARS वायरस ने दुनियाभर में खूब तबाही मचाई थी | उस समय दुनियाभर में करीब 800 लोग इस वायरस से मरे थे |

जानकारी के लिए बता दे इस समय दुनिया में फैले वायरस का नाम SARS -Cov 2 है या covid -19 है | साल 2007 में छपी वह रिपोर्ट एक मात्रा चेतवानी नहीं थी | इसके बाद भी वैज्ञानिको ने दुनिया को चेतवानी देने की कोशिश की थी | बता दे कोरोना वायरस की फैमिली पर 1980 से रिसर्च चल रहा है | रिसर्चरस का कहना है कि उन्हें पहले से ही इस वायरस के फैलने की आशंका थी |

No comments