Breaking News

सेना का कमाल: 3 आतंकवादी मारे,11 चौकी तबाह,6 गद्दार गिरफ्तार


सेना ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम करते हुए 3 पाकिस्तानी आतंकवादियों को ढेर कर दिया। ये आतंकवादी हथियारों से लैस थे। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की तरफ से आतंकवादियों ने 28 मई को नौशेरा के कलाल क्षेत्र में घुसने की कोशिश की थी लेकिन वे घुसपैठ निरोधी अभियान में मारे गए।
उन्होंने बताया कि तलाश दल ने सोमवार सुबह तीनों आतंकवादियों के शव को ढूंढ लिया लेकिन दुश्मन की चौकी नजदीक होने की वजह से वह शवों को कब्जे में नहीं ले पाए।

अधिकारियों ने बताया कि अभियान में दो एके असॉल्ट राइफल, 13 कारतूस, अमेरिका निर्मित एक एम-16 ए2 राइफल, छह कारतूस, चीन निर्मित एक 9-एमएम का पिस्तौल, एक अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर (यूबीजीएल), छह ग्रेनेड, पांच हथगोले, दो चाकू और भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद किये गए। उन्होंने बताया कि इसके अलावा वहां से भारी मात्रा में खाद्य पदार्थ, दवाइयां और 17,000 रुपये बरामद किये गए।
जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में सुरक्षा बलों ने नशीले पदार्थों की तस्करी के पैसे से आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा देने वाले एक नार्को-टेरर मॉड्यूल का पर्दाफाश कर प्रतिबंधित जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) से जुड़े 6 लोगों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने सोमवार को बताया कि ये सभी पाकिस्तान में रह रहे अपने आकाओं के साथ करीबी संपर्क में थे और मादक पदार्थें की तस्करी, हथियार पहुंचाने और जैश के आतंकवादियों को आर्थिक सहायता मुहैया कराने में शामिल थे। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पुख्ता जानकारी पर कार्रवाई करते हुए पुलिस, सेना और सीआरपीएफ की एक संयुक्त टीम ने इन्हें जिले के चंदूरा क्षेत्र से गिरफ्तार किया।

पाकिस्तानी सेना ने शनिवार सुबह से रविवार सुबह तक सेना की चौकियों के साथ रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर गोलाबारी की। कीरनी से बालाकोट तक सौ किलोमीटर से अधिक लंबी नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना ने नापाक हरकतों को अंजाम दिया। इससे मेंढर सेक्टर में एक ग्रामीण और आधा दर्जन जानवर घायल हो गए। गोलाबारी में कई मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। भारतीय सेना की ओर से की गई जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। उसकी कई चौकियां तबाह हो गई हैं। पाकिस्तानी सेना के छह सैनिक गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

पाकिस्तानी सेना ने शनिवार को सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक जिले के कीरनी, कस्बा, मंधार क्षेत्रों में सेना की चौकियों के साथ ही रिहायशी इलाकों को निशाना बनाकर मोर्टार बरसाए। उसके बाद शाम 7.40 बजे गुलपुर सेक्टर के खड़ी करमाड़ा में मोर्टार से गोलाबारी शुरू की जो रविवार सुबह तीन बजे तक जारी रही। इस दौरान रात 11 बजे पाकिस्तानी सेना ने मेंढर और बालाकोट में भी मोर्टार से सेना की चौकियों और रिहायशी इलाकों को निशाना बनाना शुरू कर दिया। सेना ने भी जवाबी कार्रवाई की। दोनों तरफ से सुबह 4 बजे तक गोलाबारी जारी रही।

इस दौरान गांव गोल्द मोहल्ला नवनी निवासी मोहम्मद रशीद के मकान की छत पर एक 120 एमएम का पाकिस्तानी मोर्टार आ गिरा जो छत तोड़कर कमरे में जा घुसा। इससे रशीद (25) का बेटा यासिर घायल हो गया। गोलाबारी से गांव में बिजली आपूर्ति भी ठप हो गई।

उधर, भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। शनिवार रात 12 बजे भी संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए पाकिस्तान 25 चिनाब रेंजर्स ने करोल पंगा पोस्ट से रविवार सुबह साढ़े चार बजे तक भारतीय सीमा में गोलाबारी की।

इस क्षेत्र में बीएसएफ की ओर से सुरक्षा बांध का काम शनिवार रात करीब साढ़े नौ बजे शुरू किया गया, जिसे बाधित करने के लिए पाकिस्तानी सेना ने गोले बरसाने शुरू कर दिए। बीएसएफ की करोल माथरयां पोस्ट को भी निशाना बनाने की नापाक कोशिशें की। सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया। हालांकि इस गोलाबारी में किसी भी प्रकार के नुकसान की सूचना नहीं है।

No comments