Breaking News

यूपी में तेजी से बढ़ते हुए कोरोना के मामलों को देखते हुए योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला


बीते 24 घंटे में राज्य में संक्रमण के 275 मामले सामने आए हैं। वहीं अब तक वायरस की वजह से 202 मरीजों की जान चुकी है। प्रदेश में अब तक संक्रमण के 7,445 मामले पाए जा चुके हैं। इसमें से 2,012 संक्रमित मरीज प्रवासी श्रमिक हैं जो अन्य राज्यों से वापस प्रदेश लौटे हैं। इसके अतिरिक्त प्रदेश में 4,410 मरीज ऐसे भी हैं जिन्होंने इस जानलेवा बीमारी को मात देते हुए हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होकर घर जा चुके हैं। राज्य में लगातार बढ़ते हुए संक्रमण के मामलों को देखते हुए, प्रदेश सरकार ने एल-1 के कोविड अस्पतालों की संख्या दोगुनी करने का फैसला करते हुए इन्हे 20 ने जिलों में बढ़ाया जाएगा।

शादी को लेकर दबंग गर्ल ने किया खुलासा, बोलीं- ऐसे लड़के को दूंगी प्राथमिकता

प्रदेश में जिन जिलों में कोरोना के मरीज सामने ज्यादा आ रहे हैं उनमे यह हॉस्पिटल बनाएं जाएगें। अन्य राज्यों से आ रहे मजदूर कोरोना संक्रमित जिन जिलों में निकल रहे हैं। वहां हॉस्पिटल में अब बेड कम पड़ने लगे हैं। इसके लिए 20 जिलों लेविल-1 के 245 कोविड केयर सेंटरों में लक्षण वाले मरीजों के साथ ही क्वारंटाइन बेड भी बनाए गए हैं। एल-1 के कोविड अस्पतालों में अब तक 21 हज़ार 075 बेड बनाए गए हैं। अब इन ही अस्पतालों में 21 हज़ार अतिरिक्त बेड और बढ़ाए जाएंगे। इसके लिए में चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव अमित मोहन प्रसाद ने मंडलायुक्त सहित सभी डीएम, सीएमओ और चिकित्सा अधीक्षकों को आदेश जारी कर दिए हैं।

उन्होंने अपने निर्देश कहा हैं कि, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी कोविड केयर सेंन्टरों का निरीक्षण कर वहां 21,000 बेड जल्द बनाकर शासन को तुरंत सूचित करें। राज्य के इन जिलों में बढ़ाएं जाएंगे बेड- आगरा, गोरखपुर, झांसी, कानपुर नगर, लखनऊ, उन्नाव, मथुरा, अलीगढ़, आजमगढ़, गाजियाबाद, मुरादाबाद, बाराबंकी, बरेली, मेरठ, गौतमबुद्ध नगर, प्रयागराज, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, जौनपुर और वाराणसी।

No comments