Breaking News

दमा, लिवर, पीलिया और खून को साफ करने का रामबाण उपचार है ये पेड़, सेवन विधि जान लें


भारतीय संस्कृति में पीपल का पेड़ पूज्‍यनीय और धार्मिक महत्व रखता है। पीपल औषधीय वृक्ष होता है। इसके पत्ते, फल लकड़ी और अन्य भागों में कुछ न कुछ औषधीय गुण होते है। पीपल से हम नपुंसकता, त्वचा रोग, अस्थमा, गुर्दे की बीमारी, कब्ज आदि रोगों का ठीक कर सकते है। पीपल के पत्‍तों में ग्‍लूकोज, फेनोलिक, मेनोस आदि पोषक तत्व होते है जबकि इसकी छाल में विटामिन K, टैनन और फाइटोस्‍टेरोलिन अच्छी मात्रा में होते है। इनमें एंटीऑक्सिडेंट और खनिज पदार्थ भी होते है। पीपल वृक्ष में इनका संग्रह होने के कारण यह औषधीय पेड़ कहलाता है। आइये जानते है पीपल के फायदों के बारे में।

1.पीपल की छाल के फायदे दमा के लिए: पीपल वृक्ष बहुत से रोगों को कम करने और उनसे मुक्‍त कराने में हमारी मदद करता है। पीपल दमा बीमारी को रोकने में मदद करता है। इस रोग को दूर करने के लिए पीपल की छाल और फलों के बारीक पाउडर बनाकर सेवन करने से अस्‍थमा रोग का उपचार किया जा सकता है।

2.पीपल के फल के फायदे रक्त को शुद्ध करने में: पीपल के फलों का पाउडर में आपके खून को साफ कर सकता है। आप इस पाउडर में शहद मिलाकर उपयोग कर सकते है। आप इसका सेवन प्रतिदिन तीन बार कर सकते है। यह निश्चित ही आपके खून की अशुद्धियों को दूर करेगा।

3.पीपल का उपयोग लीवर और स्‍पलीन रोग में: 
इसके लिए पीपल की हरी और मुलायम पत्तियों और दानेदार शक्‍कर को मिला कर उसे महीन पाउडर बना ले। इस पाउडर को एक 250gm पानी में मिला कर छान ले। अब इस पानी को दिन में कम से कम दो बार पीयें और ऐसा 7 दिनों तक करे। यह उत्‍पाद जांडिस रोगी के लिए बहुत ही लाभकारी होती है।

No comments