Breaking News

राहुल द्रविड़ ने बताया धोनी की वो खूबी जिसकी वजह से वो हैं दुनिया के बेस्ट फिनीशर


भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 2004 में भारत के लिए डेब्यू किया और उसके बाद से खिलाड़ी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. एमएस ने विश्व क्रिकेट में अपना नाम सुनहरे अक्षरों से दर्ज कराया. अब पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने भी जमकर माही की तारीफ करते हुए बताया है कि आखिर माही सर्वश्रेष्ठ फिनिशर क्यों हैं आखिर उनमें क्या खासियत है.
धोनी को रिजल्ट की नहीं रहती परवाह

विकेटकीपर-बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर्स में से एक हैं. विश्व कप 2011 में धोनी ने टीम इंडिया को छक्के के साथ खिताबी जीत दिलाई थी. इतना ही नहीं जब तक एमएस मैदान पर होते हैं तब तक भारत मुश्किल से मुश्किल परिस्थिति से निकलकर मैच जीत सकता है. अब भारतीय दिग्गज व पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो पर संजय मांजरेकर के साथ बात करते हुए बताया कि आखिर एमएस की कौन सी क्वालिटी उन्हें सर्वश्रेष्ठ फिनिशर बनाती है. उन्होंने कहा,

“आपको हमेशा यह महसूस होता है कि वह वास्तव में कुछ महत्वपूर्ण कर रहा है. लेकिन वह ऐसे खेलते हैं मानो रिजल्ट उनके लिए कोई मायने ही नहीं रखता. मुझे लगता है कि आपमें यह गुण होना चाहिए या आपको खुद को इसके लिए ट्रेन करना चाहिए। यह ऐसा गुण है, जो मुझमें कभी नहीं रहा.

किसी भी फैसले का परिणाम मेरे लिए अहमियत रखता था. धोनी से यह पूछा जाना चाहिए कि क्या यह उनका स्वाभाविक गुण है या इसे उन्होंने विकसित किया है.”
भारत के सबसे सफल कप्तान हैं धोनी

भारतीय क्रिकेट टीम को 3 आईसीसी ट्रॉफी जिताने वाले महेंद्र सिंह धोनी भारत के सबसे सफल कप्तान हैं. उन्होंने भारत को 2007 टी20 विश्व कप, 2011 एकदिवसीय विश्व कप और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जिताई. एमएस विकेट के पीछे व आगे दोनों ही जगह बेहद आक्रामक रवैया अपनाते हैं.

जब माही विकेट के पीछे होते हैं तो पलक झपकते ही गिल्लियां बिखेरकर बल्लेबाज को पवेलियन का रास्ता दिखा देते हैं. साथ ही वह गेंदबाजों को गाइड करते हैं जिससे उन्हें विकेट निकालने में मदद मिलती है. इसके अलावा जब एमएस बल्लेबाजी के लिए मैदान पर आते हैं तो फिर उनके बड़े-बड़े शॉट्स से दर्शकों का पूरा मनोरंजन होता है.

10 महीनों से क्रिकेट मैदान से दूर हैं एमएस

महेंद्र सिंह धोनी ने आखिरी बार भारतीय क्रिकेट टीम की जर्सी आईसीसी विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल मुकाबले में पहनी थी. जहां न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने 50 रनों की पारी खेली थी. इसके बाद से माही ने कोई अंतरराष्ट्रीय मुकाबला नहीं खेला है.

हालांकि मार्च में चेन्नई में शुरु हुए ट्रेनिंग कैंप में माही ने हिस्सा लिया था. बदकिस्मती से कोरोना वायरस के चलते कैंप को स्थगित कर दिया गया. अब जब आईपीएल 2020 का आयोजन होगा तो माही सीएसके की कप्तानी करते नजर आएंगे. इसके अलावा उनकी राष्ट्रीय टीम में वापसी पर अभी भी संशय की स्थिति बनी हुई है.

No comments