Breaking News

कोरोना के कहर के बीच आसमान से उतरी आफत, तीन राज्यों में बिछ गईं लाशें ही लाशें


बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखंड में गुरुवार को बिजली गिरने से 110 लोगों की जान चली गई। सबसे ज्यादा 83 मौतें बिहार में हुईं। यहां 23 जिलों में बिजली गिरने से लोगों की जान गई। उत्तर प्रदेश में 23 और झारखंड में 4 लोगों की जान गई। बिहार के 12 जिलों में अगले 48 घंटों तक भारी बारिश की आशंका है और यहां रेड अलर्ट जारी किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों राज्यों में हुई मौतों पर दुख जाहिर किया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकारें राहत कार्य में जुटी हैं।

राज्य जिले मौतें
बिहार 23 83
उत्तर प्रदेश 8 23
झारखंड 2 04

बिहार में किन जिलों में कितनी मौतें?

बिहार के गोपालगंज में बिजली गिरने से सबसे ज्यादा 14 लोगों की जान गई। मधुबनी और नवादा में 8-8 और सीवान, भागलपुर में 6-6 लोगों मौत हुई। दरभंगा, पूर्वी चंपारण और बांका में 5-5 लोगों की जान गई। खगड़िया और औरंगाबाद में 3-3 और पश्चिमी चंपारण, किशनगंज, जहानाबाद, जमुई, पूर्णिया, सुपौल, कैमूर व बक्सर में 2-2 लोगों की मौत हुई है। समस्तीपुर, शिवहर, सारण, सीतामढ़ी और मधेपुरा में एक-एक व्यक्ति की जान गई।

राज्य सरकार ने क्या निर्देश दिए?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक दिन में बिजली गिरने से इतनी ज्यादा मौतों पर दुख जाहिर किया। उन्होंने 4-4 लाख मुआवजा परिजनों को देने का ऐलान किया है। सीएम ने अपील की है कि सभी लोग खराब मौसम में पूरी सतर्कता बरतें। आपदा प्रबंधन विभाग की तरफ से जारी किए गए निर्देशों का पालन करें। बारिश के दौरान घरों में ही रहें या सुरक्षित स्थानों पर रहें।

क्या अभी ऐसा मौसम बना रहेगा?

हां, मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे के लिए बिहार के 12 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है। इसमें पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, सहरसा और मधेपुरा शामिल हैं। कटिहार, भागलपुर, बांका, मुंगेर, खगड़िया और जमुई में भी भारी बारिश की आशंका है।

मौसम ऐसा क्यों है?

मौसम विभाग के मुताबिक, देश में तीन सिस्टम सक्रिय हैं। उत्तरी छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के ऊपर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। यह सिस्टम धीरे-धीरे उत्तर-पूर्व में आगे बढ़ेगा। यह बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के तराई इलाकों में पहुंचेगा। मानसून ट्रफ भी 27 जून तक तराई क्षेत्रों में रहेगा। इस वजह से बिहार में भारी बारिश की आशंका है।

उत्तर प्रदेश और झारखंड में कहां हुई मौतें?

उत्तर प्रदेश के देवरिया में 9, प्रयागराज में 6, अंबेडकरनगर में 3, बाराबंकी में 2, कुशीनगर, फतेहपुर, उन्नाव, बलरामपुर में 1-1 लोगों की जान गई। झारखंड के पलामू और गढ़वा जिले में बिजली की चपेट में आने से महिला समेत चार लोगों की मौत हो गई।

झारखंड के गढ़वा की करचाली पंचायत में खेत में काम करते वक्त रविंद्र कच्छप (28), अघौरा गांव में पार्वती देवी (50), पलामू के पिंडराही गांव के प्रह्लाद सिंह (46) और बिचलाडीह गांव के अर्जुन भुईयां (30) की मौत हो गई। ये सभी लोग घरों से बाहर थे। कोई खेत में काम कर रहा था तो कोई जानवर चरा रहा था।

बिजली गिरने की इतिहास की सबसे भयावह घटना
1807 में 26 जून को यूरोपियन देश लग्जम्बर्ग में गन पाउडर बनाने वाली फैक्ट्री में बिजली गिरी थी। इस घटना में 300 से ज्यादा लोगों की जान गई थी। इसे इतिहास की सबसे भयावह बिजली गिरने की घटना माना जाता है।
अमेरिका में हर साल बिजली गिरने से करीब 73 लोगों की जान जाती है। अमेरिका में कभी-कभी एक साल में 70 हजार बार चक्रवाती तूफान आ चुके हैं। यहां हर साल करीब 2 करोड़ बार बिजली गिरती है।
पृथ्वी पर हर दिन करीब 80 से 90 लाख बार बिजली गिरती है। बिजली गिरने पर तुरंत तापमान 27 हजार 760 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। एक सामान्य बिजली में 10 करोड़ वोल्ट की बिजली पैदा होती है। लंबाई में मापा जाए तो ये 8 किलोमीटर तक होती है।

No comments