Breaking News

देवभूमि हिमाचल की इस धाकड़ IPS अधिकारी से अपराधी खाते हैं खौफ, पिता थे HRTC में बस कंडक्टर


अगर कुछ कर गुजरने का हौसला हो तो इंसान के लिए कुछ भी असंभव नहीं है कुछ ऐसा ही कर दिखाया है पहाड़ की इस होनहार बेटी ने। बचपन से आईपीएस बनने का सपना संजोने वाली ऊना जिला के ठठ्ठल गांव की बेटी शालिनी अग्निहोत्री (Shalini Agnihotri IPS) आज किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं। इनके काम करने का ढंग कुछ ऐसा है की नाम से ही नशे के कारोबारी घबराते हैं। बहुत ही साधारण परिवार में पली बढ़ी शालिनी ने कड़ी मेहनत के बाद यह मुकाम हासिल किया है।

Shalini Agnihotri IPS सर्वश्रेष्ठ आईपीएस ट्रेनी खिताब कर चुकी है अपने नाम 2012 में आईपीएस की परीक्षा पास करने के बाद वर्ष 2012-2013 में राष्ट्रीय पुलिस अकादमी हैदराबाद में प्रशिक्षण के दौरान वह सर्वश्रेष्ठ आईपीएस ट्रेनी की ट्राफी हासिल कर चुकी है। सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर ट्रेनी आफिसर होने के कारण उन्हें देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा सम्मानित भी किया गया। बता दें कि उन्होंने बिना कोचिंग के पहले ही प्रयास में यह मुकाम हासिल किया था। उनकी 10वीं, 12वीं की शिक्षा धर्मशाला के DAV स्कूल से हुई है और आगे स्नातक बीएससी कृषि (सीएसके एचपी कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर) और एमएससी कृषि (पीएयू लुधियाना) से प्राप्त की है। वह एमएससी में गोल्ड मैडिलिस्ट भी रह चुकी है।

Shalini Agnihotri IPS के पिता बस में थे कंडक्टर शालिनी अपने गांव की पहली आईपीएस पुलिस अधिकारी हैं। उनके पिता रमेश कुमार अग्निहोत्री एचआरटीसी (HRTC) बस में बतौर कंडक्टर सेवानिवृत्त हुए हैं। और उनकी मां हाउस वाइफ है। घर का खर्चा चलाने के लिए शालिनी की मां घर पर सिलाई का काम करती थी। वहीं इनकी बड़ी बहन रजनी डॉक्टर व भाई आशीष इंडियन आर्मी में कैप्टन के पद पर तैनात हैं। आशीष ने पहली बार में एनडीए (NDA) टेस्ट को क्लीयर कर लिया था। जब UPSC परीक्षा का फ़ाइनल परिणाम आया तो उसमे शलिनी को ऑल इंडिया लेवल पर 285वीं रैंक मिली थी।

Shalini Agnihotri IPS नाम से ही खौफ खाते हैं अपराधी 
ट्रेनिंग पूरी होने के बाद उन्हें उनकी पहली पोस्टिंग हिमाचल में हुई, जब उन्होंने कुल्लू में पुलिस अधीक्षक का पदभार संभाला तो अपराधियों में दहशत हो गई। उन्होंने नशे के व्यापारियों के खिलाफी काफी अभियान चलाए हैं। इस दौरान उन्होंने दर्जनों अधिकारियों को जेल भी पहुंचाया हैं। उन्होने ना सिर्फ अपने घर परिवार का बल्कि पूरे प्रदेश का नाम रोशन किया है।

No comments