Breaking News

100 रानियों की संतुष्टि के लिए राजा करते थे इस बीज का सेवन


आयुर्वेदिक वैज्ञानिकों के अनुसार इस दुनिया में जीतनी भी दवा बनाई जाती हैं। उनमे किसी पेड़ का बीज या किसी पेड़ की छाल का उपयोग किया जाता हैं। प्राचीन काल में राजा महाराजा अपनी यौन इच्छा को बढ़ाने के लिए इसी तरह के बीज का सेवन करते थे। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे उस बीज के बारे में जिस बीज के सेवन से राजा 100 रानियों को संतुष्ट करते थे और एक सफल वैवाहिक जीवन एन्जॉय करते थे। तो आइये इसके बारे में जानते हैं विस्तार से।

कौंच का बीज।
आयुर्वेद के अनुसार कौंच का बीज एक ताकतवर शक्तिवर्धक औषधि हैं। प्राचीन काल में राजा महाराजा अपने शरीर की स्टैमिना और यौन शक्ति को मजबूत बनाने के लिए इस बीज का सेवन करते थे। इससे पेल्विक एरिया की मसल्स मजबूत होती हैं तथा प्राइवेट पार्ट में ब्लड का सर्कुलेशन तेजी के साथ होता हैं। जिससे पुरुष शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत होते हैं।

कौंच के बीज के फायदे।
इसके सेवन करने से पुरुषों को संभोग के दौरान जल्दी वीर्य स्खलन की समस्या नहीं होती हैं। साथ ही साथ पुरुष लंबे समय तक अपने पार्टनर के साथ प्रेम संबंध को एन्जॉय करते हैं।

कौंच के बीज फोलिक एसिड और जिंक की मात्रा अधिक होती हैं। जिससे पुरुषों को नपुंसकता की समस्या से छुटकारा मिल जाता हैं। इससे पुरुष खुद को ऊर्जावान महसूस करते हैं। साथ ही साथ इरेक्शन संबंधित परेशानी भी नहीं होती हैं।

खाने की विधि।

अगर आप कौंच के बीज का सेवन करना चाहते हैं तो आप इस बीज को पीसकर इसका पाउडर बना लें और इस पाउडर का सेवन सुबह शाम एक गिलाश गर्म दूध के साथ करें। इससे शरीर में ताकत आएगी और आपकी यौन शक्ति में भी वृद्धि होगी।

No comments