Breaking News

सूर्य को जल अर्पण करने वाले लोग लोटे में डाल लें ये एक चीज, होगी हर मनोकामना पूरी


सूर्य को वेदों में जगत की आत्मा कहा गया है। समस्त चराचर जगत की आत्मा सूर्य ही है। सूर्य से ही इस पृथ्वी पर जीवन है, यह आज एक सर्वमान्य सत्य है। वैदिक काल में आर्य सूर्य को ही सारे जगत का कर्ता धर्ता मानते थे। सूर्य का शब्दार्थ है सर्व प्रेरक.यह सर्व प्रकाशक, सर्व प्रवर्तक होने से सर्व कल्याणकारी है। ऋग्वेद के देवताओं कें सूर्य का महत्वपूर्ण स्थान है। यजुर्वेद ने "चक्षो सूर्यो जायत" कह कर सूर्य को भगवान का नेत्र माना है।

 छान्दोग्यपनिषद में सूर्य को प्रणव निरूपित कर उनकी ध्यान साधना से पुत्र प्राप्ति का लाभ बताया गया है।
हमारे धर्म शास्त्रों में वर्णित सभी देवी देवताओं में सूर्यदेव को सबसे महत्त्वपूर्ण स्थान दिया गया है, क्योंकि सूर्यदेव ही एक मात्र ऐसे देवता हैं, जो धरती पर साक्षात् दिखाई पड़ते हैं, तथा हमारे जीवन के लिए वो अत्यंत आवश्यक हैं, यदि किसी की कुंडली में सूर्य ग्रह मजबूत स्थिति में हो जाये तो उस व्यक्ति को राजपद तक की प्राप्ति हो सकती है, और उसे हर जगह सम्मान मिलता है, सूर्य को ग्रहों का रजा कहा जाता है, सूर्यदेव की आराधना से सभी ग्रहों का दोष शांत हो जाता है।

कहा जाता है कि जो व्यक्ति अपने दिन की शुरुआत सूर्यदेव को जल अर्पित करने से करता है, उसे कभी भी किसी काम में असफलता नही मिलती है, सूर्य देव को अर्घ्य देने की महिमा और लाभ शास्त्रों में भी बताये गये हैं, सूर्यदेव को अर्घ्य देने से नौकरी में आ रही अड़चने दूर होती हैं, जो सुर्येव को प्रसन्न क्र लेता है, उससे यमराज भी प्रसन्न होते हैं, और बीमारियों का खतरा टलता है।

आप में से बहुत से लोग प्रतिदिन सूर्यदेव को जल चढ़ाते होंगे, लेकिन अगर आप सही विधि से जल अर्पित नही करते हैं तो आपको इसका फल नही मिल पाता है, सूर्यदेव को जल चढ़ाते समय सबसे पहले आप एक दीपक प्रज्वलित करें और सूर्यदेव से अपनी मनोकामना कहें, अब आप जल चढ़ाने वाले लोटे में तीन बूँद यमुना जल मिला लें और सूर्यदेव को जल अर्पित कर दें, आपकी मनोकामना बहुत जल्दी ही पूरी हो जाएगी।

No comments