Breaking News

ये हैं दुनिया के 10 सबसे कठिन एग्जाम जिन्हें पास करने में बीत जाती है जिंदगी


आपने कभी सोचा है आठ घंटे का एग्जाम जी हां… ये होता है नेटवर्किंग की मास्टर कंपनी सिस्को में। नेटवर्क इंजीनियरिंग के लिए इस परीक्षा को पास करना जरूरी होता है। 

इस परीक्षा के आयोजन के दो चरण होते हैं। जो कि 6 अलग-अलग भागों में विभाजित होते हैं।

इस कठिन एग्जाम का मुख्य उद्देश्य प्रतियोगी के हर एक क्षेत्र में अनुभवों और उसके ज्ञान को देखा जाता है। इस एग्जाम का सबसे मुश्किल वक्त प्रेक्टिकल का होता है जो करीब 8 घंटों का होता है जो किसी के लिए भी एक मुश्किल चुनौती से कम नहीं है लगभग 1 प्रतिशत लोग सब कुछ पास करने के बाद ही नेटवर्क इंजीनियरिंग का सर्टिफिकेट पा सकते हैं जो वाकई कठिन है।

प्रत्येक देश की अपनी मेन्सा सोसायटी होती‌ है जो कि दुनिया की सबसे पुरानी आइक्यू IQ सोसायटी मानी जाती है। मेन्सा सबसे कठिन एग्जाम में एक माना जाता है। इस एग्जाम में भाग लेने की कोई भी आयु निश्चित नहीं है। किसी भी व्यक्ति को मेन्सा सोसायटी का सदस्य बनने के लिए एग्जाम में कम से कम 98 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होते हैं।

1. आईईएस इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेज ये भारत सरकार के अंतर्गत होने वाला एग्जाम है। ये एग्जाम यूपीएससी की परीक्षा के अंतर्गत चार चरणों में होती हैं। आपको बता दें कि यूपीएससी भारत के लिए प्रबंधिकीय और तकनीकी सेवाओं के लिए एग्जाम आयोजित करती है।

यूपीएससी के अंतर्गत होने वाले इस एग्जाम में छह चरणों के एग्जाम होते हैं। इस एग्जाम में हजारों लोग भाग लेते हैं, लेकिन ये एग्जाम इतना कठिन होता है कि कि केवल चंद लोग ही इसे क्लियर करके करियर बना पाते हैं।

मास्टर सोमेलियर डिप्लोमा एग्जाम ये एग्जाम इतना‌अधिक कठिन होता है इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि पिछले 40 वर्षों में केवल 229 लोग ही इस एग्जाम को क्रैक कर पाए हैं। इस एग्जाम में लोग वाइन निर्माण के विशेषज्ञ बनते हैं।

इस एग्जाम में ये तीन चरण होते हैं। इन चरणों पहला चरण थ्योरी, दूसरा सर्विसेज और तीसरा चरण ब्लाइंड टेस्टिंग का होता है। लेकिन सबसे कठिन चरण यही होता है क्योकि इसमें ये वाइन को टेस्ट करके बताना होता है कि वाइन कहां बनी थी और कब बनीं थी।

 चार्टर्ड वित्तीय विश्लेषक उपर्युक्त एग्जाम की तरह की चार्टर्ड वित्तीय विश्लेषक की परीक्षा भी बेहद कठिन माना जाता है। इस एग्जाम में कठिनाई इतनी होती है कि केवल 20 प्रतिशत प्रतिभागी ही इस कठिन एग्जाम को क्लियर कर पाते हैं।

ये मुख्य रुप से वित्तीय विभाग से संबंधित होता है इसे एक बार में क्रैक करना नामुमकिन ही कहा जा सकता है एक ऐवरेज स्टूडेंट इस एग्जाम को चार बार प्रयास करने के बाद सफलता प्राप्त कर पाता है जो कि अपने आप में इसकी कठिनाई की नजीर बताता है।

2. गौका एग्जाम दुनिया के सबसे कठिन एग्जाम की सूची में गौका का नाम भी है। गौका चीन में एक अनिवार्य एग्जाम माना जाता है। जिसमें उच्च शिक्षा की चाह रखने वाले प्रत्येक स्टूडेंट को शामिल होना पड़ता है। चीन में होने वाला ये एग्जाम दो दिनों में 9 घंटे से ज्यादा समय तक चलती है।

एग्जाम देने वालों में से केवल 0.2 प्रतिशत ही इतने अंक हासिल कर पाते हैं कि उन्हें देश के शीर्ष कॉलेजों में प्रवेश मिल सके। यही कारण है कि ये दुनिया के सबसे कठिन एग्जाम में चीन का ये गौका एग्जाम शामिल है।

3. आईआईटी मेन्स आईआईटी यानी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के अंतर्गत होने वाला मेन्स का एग्जाम सबसे कठिन एग्जाम्स की सूची में शामिल है। इस एग्जाम में वो लोग शामिल होते हैं वो इंजीनियरिंग की पढ़ाई आगे आईआईटी के संस्थानों में करना चासते है इसमें चार-चार घंटों के दो ऑब्जेक्टिव एग्जाम होते हैं, जिन्हें सॉल्व करना माउंट एवरेस्ट में चढ़ने के बराबर हूं।

आपको बता दें कि हर साल इस बेहद कठिन एग्जाम में लाखों लोग भाग लेते हैं लेकिन कुछ हज़ार लोग ही इष एग्जाम को क्लियर करके आईआईटी में प्रवेश पाते हैं।

4. चार्टर्ड अकाउंटेंट चार्टर्ड अकाउंटेंट के एग्जाम भारत के चार्टर्ड एकाउंटेंट्स संस्थान कराता है जो कि तीन स्तरों में आयोजित किए जाते हैं। इस एग्जाम को एक बार में पास करना लगभग-लगभग नामुमकिन हैता है इसलिए स्टूडेंट्स इसके लिए कई बार एग्जाम देते हैं। हर साल इस परीक्षा में लाखों स्टूडेंट्स भाग लेते हैं लेकिन उनमें से मात्र 9-से 10 प्रतिशत स्टूडेंट्स ही इसमें उत्तीर्ण हो पाते हैं।


5. ऑल सोल्स प्राइज फेलोशिप एग्जाम ये भी दुनिया के सबसे कठिन एग्जाम में से एक माना जाता है। ये सबसे कठिन एग्जाम ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित की जाती है ये एक फेलोशिप परीक्षा है। इस कठिन एग्जाम में तीन घंटे के चार पेपर होते हैं।

वहीं हर साल केवल‌ दो लोग ही इस एग्जाम में चयनित किए जाते हैं। आप ये सोच कर हैरान रह जाएंगे लेकिन असलियत ये है कि इस एग्जाम में प्रतियोगी को एक शब्द पर एक निबंध लिखना पड़ता है।

6. यूपीएससी भारत में सरकारी नौकरी पाना हर एक शख्स का सपना होता है लेकिन हकीकत ये है कि सरकारी नौकरी आसान नहीं हैं। भारत में संघ लोक सेवा आयोग के अंतर्गत एग्जाम का आयोजन होता है। ये एग्जाम तीन चरणों में होता है पहला चरण प्रीलिम, दूसरा चरण मेन और तीसरा सडसे कठिन चरण इंटरव्यू।

यूपीएससी में हर साल लाखों लोग अधिकारी बनने का सपना लेकर एग्जाम देते हैं लेकिन इस कठिन एग्जाम को पास करने वालों का प्रतिशत 0.1 से 0.2 तक ही सीमित है अर्थात बेहद मुश्किल है।

No comments