Breaking News

ये 3 कंपनियां बना रहीं कोरोना वैक्सीन, भारत में इस दिन तक बन जाएगी कोरोना वैक्सीन



PM नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश को संबोधित करते हुए कई बड़े ऐलान किए. इस दौरान पीएम मोदी ने कोरोना की वैक्सीन को लेकर कहा कि देश के वैज्ञानिक और डॉक्टर रात दिन इसे बनाने में जुटे हैं और जल्द ही कोरोना वैक्सीन को तैयार कर लिया जाएगा. ऐसे में अब लोगों के अंदर ये जानने की उत्सुकता है कि वो कौनसी कंपनियां हैं जो भारत में कोरोना वैक्सीन पर काम कर रही हैं. इसका जवाब वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) के डीजी शेखर मांडे ने दिया.

शेखर मांडे ने बताया, भारत बायोटेक, सीरम इंस्टीट्यूट और जाइडस कैडिला भारत में कोरोना वैक्सीन पर काम कर रही हैं. उन्होंने कहा कि अहम बात ये है कि कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई में भारतीय साइंटिस्ट पीछे नहीं हैं. मेरी जानकारी के अनुसार, भारत बायोटेक, सीरम इंस्टीट्यूट और जाइडस कैडिला कोविड वैक्सीन पर काम कर रही हैं. इसके लिए आने वाले कुछ महीने अहम होने वाले हैं.

अलग-अलग दौर में वैक्सीन देश में इस वक्त दो वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल चल रहे हैं. ये हैं- भारत बायोटेक और जायडस कैडिला. जायडस कैडिला कोरोना वैक्सीन क्लिनिकल परीक्षण के दूसरे चरण में है. वैक्सीन का पहले चरण का क्लिनिकल ट्रायल सफल रहा था. कंपनी के मुताबिक, पहले चरण के क्लिनिकल ट्रायल में वैक्सीन की खुराक दिए जाने पर स्वयंसेवी स्वस्थ पाए गए. वहीं दूसरो दौर के क्लिनिकल ट्रायल में देश के अलग-अलग हिस्सों में 1000 लोगों पर ट्रायल किया जाएगा. वहीं भारत बायोटेक की बात करें तो ये कंपनी इससे पहले पोलियो, रेबीज, चिकनगुनिया, जापानी इनसेफ्लाइटिस, रोटावायरस और जीका वायरस के लिए भी वैक्सीन बनाई है. गुजरात की कंपनी जायडस कैडिला हेल्थ केयर लिमिटेड ने कोविड-19 वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल 15 जुलाई से शुरू कर दिया था.

वैक्सीन को लेकर सरकार की तैयारी 
बता दें कि देश में कोरोना वैक्सीन को लेकर इन दिनों बैठकों का दौर लगातार चल रहा है. नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल की अध्यक्षता में कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर एक अहम बैठक इसी हफ्ते हुई थी. इस बैठक में वैक्सीन से जुड़े तमाम पहलुओं पर बात की गई. ये कमेटी कोरोना वैक्सीन बनाने वाले सभी मैन्युफैक्चरर्स और राज्य सरकारों के साथ अहम चीजों पर बात कर रही है. सूत्रों की माने तो कोरोना वैक्सीन साल 2021-22 के अंत तक पेश किया जा सकता है.

No comments