Breaking News

जिस पौधे को आप बेकार समझकर उखाड़ कर फेंक रहे हैं वह किसी वरदान से कम नहीं

 

गोखरू या 'गोक्षुर' भूमि पर फ़ैलने वाला छोटा प्रसरणशील क्षुप है जो कि आषाढ़ और श्रावण मास मे प्राय हर प्रकार की जमीन या खाली जमीन पर उग जाता है। पत्र खंडित और फूल पीले रंग के आते हैं, फल कंटक युक्त होते हैं, बाजार मे गोखरु के नाम से इसके बीज मिलते हैं। गोखरू का पौधा हमारी सेहत के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है ! इसे दूसरी संजीविनी बूटी के नाम से भी जाना जाता है ! 

इसके उपयोग से कई तरह के रोगो को जड़ से खत्म किया जा सकता है , गोखरू के पौधे के फायदे : जो लोग अपनी शारीरिक कमजोरी से बहुत ज्यादा परेशान रहते है और उनकी निजी जिंदगी भी सही नहीं रहती उन लोगो को गोखरू के पौधे का उपयोग जरूर करना चाहिए इसके सेवन से आपकी शारीरिक कमजोरी दूर होगी और यह नपुंसकता जैसी बीमारी के लिए यह संजीवनी बूटी की तरह कार्य करता है। 

जो व्यक्ति अपनी पथरी से परेशान है उन लोगो को गोखरू के फलो का रास 3 ग्राम शहद और 3 ग्राम रस दोनों बराबर भाग में मिलाकर चाटने से पथरी कुछ ही दिनों में मूत्र के रास्ते गल कर बाहर निकल जाती है। अगर किसी व्यक्ति को आये दिन पेशाब में जलन की शिकायत रहती है तो उसके लिए गोखरू को पानी में भिगोकर रख दें 1 घंटे पश्चात उस पानी को छानकर 5-5 ग्राम दिनभर 3 बार ले मूत्र संबंधी सभी समस्याएं जल्दी ही समाप्त हो जाएंगी। और आप पहले से ज्यादा अच्छा फील करोगे

No comments