Breaking News

बिना ऑपरेशन भी निकल सकती हैं पथरी, बस अपनाएं ये आयुर्वेदिक औषधियां


किडनी, मूत्राशय आदि में पथरी होना एक आम समस्या है। जिससे अधिकतर लोग परेशान रहते हैं। जब शरीर में छोटे-छोटे प्रकार के केमिकल्स एक साथ इकट्ठा हो जाते हैं तो वह पथरी कहलाती हैं। आमतौर पर इन कणों में कैल्शियम फॉस्फेट, यूरिक एसिड, कैल्शियम ऑक्सलेट, अमोनियम फॉस्फेट आदि पाया जाता है।

कई बार गलत खानपान के कारण भी किडनी को भारी नुकसान पहुंचता है। जिसके चलते कई बार किडनी में स्टोन हो जाता है। कई बार पथरी में असहनीय दर्द भी होता है। जिसके कारण कई लोग ऑपरेशन का सहारा भी लेते हैं। लेकिन अगर आप ऑपरेशन करना से डर रहे हैं तो पथरी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए ये आयुर्वेदिक औषधियों का सेवन कर सकते हैं।

पथरी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए खाएं ये औषधियां

गिलोय गिलोय इम्यूनिटी बूस्ट करने के साथ-साथ आपको कई बीमारियों से भी छुटकारा दिला सकता है। पथरी की समस्या से निजात पाने के लिए गिलोय के काढ़ा का सेवन करें। इसके लिए गिलोय के तने का 10 ग्राम चूर्ण, 5 ग्राम सौंठ का पाउडर, 5 ग्राम गोखरू के बीजों का पाउडर और 5 ग्राम अश्वंगधा का पाउडर 2 गिलास पानी में डालकर उबाल लें। जब पानी आधा बचे तो इसका सेवन करें। लगातार एक माह इसका रोजाना सेवन करने से आपको लाभ मिलेगा।

पूनर्नवा पूनर्नवा भाी किडनी के पथरी से निजात दिलाने में मददगार साबित हो सकता है। इसके साथ ही पथरी के कारण कमर और पेट दर्द की समस्या से छुटकारा मिल जाता है। इसके लिए पूनर्नवा, कचूर और अदरक को बराबर मात्रा लेकर एक गिलास पानी में डालकर उबाल लें। इसके बाद आधा पानी बच जाए तो इसका सेवन करें। दिन में 2 बार इसका सेवन करें। इससे आपकी पथरी धीरे-धीरे गलकर मूत्रमार्ग से बाहर निकल जाएगी।

आंवला आंवला के फलों का रस, चीनी और घी को आपस में मिलाकर इसका सेवन करें। इसके अलावा भूमि आंवला के रस को इलायची के दानों के साथ सेवन करने से लाभ मिलेगा।

सौंफ सौंफ की चाय भी पथरी से छुटकारा दिलाने में काफी कारगर है। इसके लिए 2 कप पानी में आधा चम्मच सौंफ डालकर उबाल लें। इसके बाद जब एक कप पानी बचे तो गैंस बंद कर दें। इसके बाद इसे गुनगुना पिएं।

अश्वगंधा अगर आप पथरी के दर्द से अधिक परेशान हैं तो अश्वगंधा के जड़ो का गुनगुना रस पीने से लाभ मिलेगा। इसके अलावा अश्वगंधा की जड़ों का रस और आंवला के फलों का रस समान मात्रा में मिलाकर आधा कप दिन में एक बार पिएं। इससे भी आपको लाभ मिलेगा

No comments