Breaking News

अगर आईपीएल 80-90 के दशक में होता तो इन 10 प्लेयर्स को ख़रीदने के लिए सभी टीम टूट पड़तीं


T20 क्रिकेट के भारतीय संस्करण IPL के चाहने वाले पूरी दुनिया में मौजूद हैं. इसने हमें एक से बढ़कर एक धुरंधर क्रिकेटर दिए हैं. कमी है तो सिर्फ़ 80 के दशक के धाकड़ भारतीय क्रिकेटर्स की. अगर इन्हें आईपीएल में खेलने का मौक़ा मिला होता तो पक्का ये और भी मज़ेदार हो गया होता. सोच कर देखिए अगर आज आईपीएल में खिलाड़ियों की नीलामी होती जिसमें सिर्फ़ 80 और 90 के दशक के क्रिकेटर्स ही होते तो कैसा होता?

हम शर्त लगा कर कहते हैं इन प्लेयर्स को ख़रीदने के लिए सभी फ़्रेंचाइज़ी टूट पड़तीं. पेश है एक झलक:

1. कपिल देव

भारत को पहला वर्ल्ड कप इन्हीं की कप्तानी में मिला था. ये कमाल के ऑलराउंडर थे. बॉल को स्विंग कराने के साथ ही उसे स्टेडियम के पार पहुंचाना भी जानते थे. इनकी बोली सबसे ऊंची लगती.

2. विनोद कांबली

आईपीएल जैसे टूर्नामेंट के लिए विनोद कांबली बेस्ट क्रिकेटर हैं. वो सबसे तेज़ 1000 रन बनाने वाले क्रिकेटर्स में से एक हैं. स्पिनर्स की तो ये बखिया उधेड़ने में माहिर थे. इन्हें मुंबई इंडियन्स ज़रूर अपने खेमे में रखना पसंद करती.

3. मोहम्मद अज़हरुद्दीन

मिडल ऑर्डर में बैटिंग करने आते और बॉलर्स के पसीने छुड़ा देते कुछ ऐसे होते अज़हरुद्दीन. फ़िटनेस में नबंर वन रहने वाले अज़हरुद्दीन अपनी टीम के लिए 15-20 रन ज़रूर बचाते. इन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स ख़रीदना पसंद करती.

4. कृष्णमाचारी श्रीकांत

श्रीकांत 80 के दशक के सबसे ख़तरनाक ओपनर्स में से एक थे. तमिलनाडु से ताल्लुक रखने वाले श्रीकांत बड़े-बड़े गेंदबाज़ों के छक्के छुड़ा देते थे. इन्हें शर्तिया तौर पर चेन्नई सुपर किंग्स ख़रीदती.

5. मनोज प्रभाकर

मनोज प्रभाकर बॉल को स्विंग करने के लिए जाने जाते थे. डेथ ओवर्स में बॉलिंग करवाने के लिए बेस्ट रहते थे. बैटिंग में भी एक छोर संभाल सकते थे. इन्हें राजस्थान रॉयल्स शायद ख़रीद लेती.

रॉबिन सिंह के जैसी धुआंधार बैटिंग करते थे उन्हें पाने के लिए हर टीम बढ़कर बोली लगाती. बैटिंग के साथ फ़िल्डिंग और बॉलिंग भी संभाल लेते. इस ऑलराउंडर में कप्तानी करने वाले सारे गुण थे. इन्हें सनराइज़र्स हैदराबाद ले सकती थीं.

जवागल श्रीनाथ भारतीय टीम के बेस्ट फ़ास्ट बॉलर्स में से एक थे. वो 140 KM/Hr की स्पीड से बॉलिंग करते थे. कोई भी कप्तान इनसे ही अपनी बॉलिंग की शुरुआत करना चाहता और उन्हें निराश नहीं करते. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर इनके लिए बेस्ट टीम होती

रवि शास्त्री जी भी एक कमाल के ऑलराउंडर थे. लेफ़्ट आर्म स्पिनर और बैटिंग में स्पिनर्स को रूला देते थे. क्षेत्ररक्षण में भी आगे थे. इन्हें चेन्नई सुपरकिंग्स ज़रूर अपनी टीम में शामिल करती.

9. अजय जडेजा

अपनी मंद मुस्कान और कमाल की बैटिंग कर लोगों का दिल जीत लेते थे अजय जडेजा. फ़िल्डिंग के साथ ही बॉलिंग भी करने में माहिर थे. ये दिल्ली कैपिटल्स के लिए अच्छा विकल्प होते.

10. मनिंदर सिंह

मनिंदर सिहं जैसा फ़ॉस्ट बॉलर हर कोई ख़रीदना चाहता. T20 में उनके जैसा अटैकिंग माइंडसेट वाला बॉलर चाहिए होता है. मनिंदर जी किंग्स इलेवन पंजाब के लिए बेस्ट ऑप्शन होते.

No comments