Breaking News

जी हुजूरी नहीं की, इसलिए भारतीय टीम से बाहर हुए रायुडू: जडेजा का दावा


IPL 2020 के आगाज मैच में चेन्नई सुपर किंग्स ने मुंबई इंडियंस को हरा दिया था। चेन्नई की इस जीत के नायक दाएं हाथ के बल्लेबाज अंबाती रायुडू थे। अंबाती रायुडू ने 71 रन की तूफानी पारी खेलकर सीएसके को जीत दिलाई और एक बार फिर से वे सुर्खियों में आ गए। आइपीएल के पहले मैच की परफॉर्मेंस के बाद फिर से सवाल खड़े हो गए कि उनको भारतीय टीम से बाहर क्यों किया गया और क्यों उनको वर्ल्ड कप 2019 में मौका नहीं मिला।

चेन्नई के लिए नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए अंबाती रायुडू ने फाफ डुप्लेसी के साथ मिलकर शतकीय साझेदारी की। इससे पहले टीम को दो विकेट जल्दी गिर गए। अंबाती रायुडू की पारी के दम पर सीएसके की जीत की नींव रखी गई, जिसको फाफ डुप्लेसिस और सैम कुर्रन ने अंजाम तक पहुंचाया। इसी प्रदर्शन के बाद भारतीय टीम मैनेजमेंट और कप्तान विराट कोहली पर सवाल खड़े हो गए। पूर्व भारतीय क्रिकेटर अजय जडेजा ने ये सवाल खड़े किए हैं।

पूर्व क्रिकेटर और मौजूदा क्रिकेट एक्सपर्ट अजय जडेजा ने क्रिकेट वेबसाइट के एक शो में कहा, "अंबाती रायुडू को पहले नंबर 4 से हटाया गया था। उसके बाद इस नंबर के लिए नए बल्लेबाज की तलाश शुरू हुई थी। रायुडू की वनडे में 50 का औसत है। अच्छे-अच्छे खिलाड़ियों का इतना औसत नहीं है। वैसे भी जब भी टीम का कप्तान बदलता है तो वो खिलाड़ी हमेशा टीम से बाहर होते हैं जो जी-हुजूरी नहीं करते। मुझे लगता है ये वही खिलाड़ी हैं।"

गौरतलब है कि वर्ल्ड कप 2019 में अंबाती रायुडू को नंबर 4 के लिए नहीं चुना था। विजय शंकर उनकी जगह वर्ल्ड कप खेलने इंग्लैंड गए थे, जिसको लेकर टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने तर्क दिया था विजय शंकर थ्री डी(थ्री डाइमेंशनल) प्लेयर हैं। इतना ही नहीं, जब विजय शंकर चोटिल हो गए तो उनकी जगह मयंक अग्रवाल को भेज दिया, जो कि ओपनर थे। वहीं, शिखर धवन चोटिल हुए थे तो रिषभ पंत को भेजा था। ऐसे में अंबाती रायुडू ने संन्यास का ऐलान कर दिया था, लेकिन बाद में कुछ लोगों के समझाने पर उन्होंने संन्यास का फैसला वापस लिया था।

No comments