Breaking News

इंडीकेटर्स की वजह से बढ़ता है भारी बिल, जानिए आसान सी ट्रिक इस तरह पायें निजात


विद्युत का उत्पादन जहाँ किया जाता है उसे बिजलीघर कहते हैं। बिजलीघरों में विद्युत-यांत्रिक जनित्रों के द्वारा बिजली पैदा की जाती है जिसे किसी किसी अन्य युक्ति से घुमाया जाता है, इसे मुख्यघूर्णक या प्रधान चालक (प्राइम मूवर) कहते हैं। प्राइम मूवर के लिये जल टर्बाइन, वाष्प टर्बाइन या गैस टर्बाइन हो सकती है। 

विद्युत शक्ति, जल से, कोयले आदि की उष्मा से, नाभिकीय अभिक्रियाओं से, पवन शक्ति से एवं अन्य कई विधियों से पैदा की जाती है।आज के समय में लोग बिजली के बिल को लेके काफी परेशान रहते हैं, सभी यह सोचते हैं कि बिजली का बिल कैसे कम किया जाए। आज हम आपको बिजली का बिल करने का एक काफी आसान तरीका बताने वाले हैं। दोस्तों आपने देखा होगा कि हमारे घर में स्विच बोर्ड्स होते हैं और उनपर इंडीकेटर्स लगे होते हैं।

ये इंडिकेटर हमे लाइट के होने या न होने के बारे में बताते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये आपके बिल को बढ़ाने का एक कारण हैं। जी हाँ, हम अक्सर इसके बारे में नहीं सोचते और ये इंडिकेटस 24 घंटे चलते रहते हैं जिसके कारण बिजली की खपत होती है। लेकिन आपको बता दें कि आप इन इंडीकेटर्स को बिना हटाए इनका एक हल कर सकते हैं।

ये हल करने के बाद ये इंडीकेटर्स भी चलते रहेंगे और आपकी बिजली की खपत भी कम होगी। आपको सिर्फ एक या रुपए का खर्चा करके इस इंडिकेटर को बदल देना है। ऐसे करीब 8 से 10 इंडिकेटर हमारे घर में लगाए गए होते हैं। यानि कि जितने स्विच बोर्ड होंगे उतने ही इंडीकेटर्स होंगे। इस इंडिकेटर को बदलने के लिए सबसे पहले आपको अपने घर की बिजली बंद कर देनी है यानि कि MCB डाउन कर दें। इन्वर्ट वगेरा भी बंद कर दें।

उसके बाद जिस स्विच बोर्ड पर ये इंडिकेटर लगा हुआ है उसे खोल लें। अब इस इंडिकेटर से वायरस को निकालकर इसे बोर्ड से खोल कर अलग कर लें। अब इसके आगे का लाल रंग का हिस्सा निकल लें। उसके बाद इसके अंदर दो इंडिकेटर के स्क्रू दिखेंगे, इन्हे खोलकर इंडिकेटर को बाहर निकाल लें।

आपको बाजार से एक रेड कलर की 5 mm की led खरीद कर ले आनी है जो कि सिर्फ 5 रुपए में मिल जाएगी। इस led को उस इंडिकेटर की जगह लगाकर आप बिजली का बिल काफी हद तक कम कर सकते हैं।

No comments