Breaking News

चेन्नै सुपर किंग्स के लिए अब पूरी तरह बंद नहीं हुए हैं प्लेऑफ के दरवाजे, बस करना होगा ये जादू


इंइंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2020 में चेन्नै सुपर किंग्स के लिए काफी मुश्किलें रही हैं। टीम के दो सीनियर खिलाड़ी, सुरेश रैना व हरभजन सिंह ने अपना नाम वापस ले लिया। उसके बाद दल के दर्जनभर सदस्यों को कोरोना की परेशानी का सामना करना पड़ा। मैदान पर भी टीम के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली टीम ने सफर की शुरुआत तो मुंबई इंडियंस के खिलाफ जीत के साथ की लेकिन इसके बाद वह पटरी से उतर गई। टीम ने 10 में से तीन में ही जीत हासिल की है और अंक तालिका में सबसे नीचे हैं। सोमवार को उसे अबू धाबी में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। ऐसे में अब प्लेऑफ के लिए उसकी दौड़ बहुत मुश्किल हो गई है।

चेन्नै ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में पांच विकेट पर 125 का स्कोर बनाया। महेंद्र सिंह धोनी ने 28 और जडेजा ने 36 रन की पारी खेली। राजस्थान रॉयल्स की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी। उसने 28 गेंद पर तीन विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद कप्तान स्टीव स्मिथ और जोस बटलर ने मिलकर पारी को मुश्किल से निकाला। बटलर ने शानदार हाफ सेंचुरी लगाई और स्मिथ ने नाबाद 26 रन की पारी खेली। राजस्थान ने 15 गेंद बाकी रहते सात विकेट से जीत हासिल कर ली।

अंक तालिका की बात करें तो दिल्ली कैपिटल्स की टीम 14 अंकों के साथ इस समय टॉप पर है। उसने 9 में से सात मैच जीते हैं। चेन्नै के हालांकि छह ही अंक हैं और वह सबसे निचले पायदान पर है। पर अब भी वह प्लेऑफ में पहुंच सकती है। हालांकि इसमें कई अगर-मगर और सवाल हैं। टीम को इसके लिए शुक्रवार से मुंबई इंडियंस के खिलाफ अपने मैच से हर हाल में जीत की पटरी पर लौटना होगा।

अब सब जीतने होंगे चेन्नै सुपर किंग्स ने अभी तक तीन ही मैच जीते हैं। उसे चार मैच और खेलने हैं तथा प्लेऑफ में पहुंचने के लिए उसे वह चारों जीतने होंगे। इसके साथ ही जीत का अंतर भी बड़ा रखना होगा ताकि उसका नेट-रनरेट भी दूसरों से बेहतर हो सके।

आईपीएल में प्लेऑफ में पहुंचने के लिए 16 अंक टीमों का स्थान पक्का कर देते हैं लेकिन चेन्नै की टीम के इतने अंक नहीं हो सकते। ऐसे में उसे 4 मैचों से आठ अंक हासिल कर 14 तक पहुंचना होगा और उसके बाद भाग्य के सहारे बैठना होगा।

इसके बाद नेट रनरेट का खेल आएगा। अगर चेन्नै की टीम 14 मैचों से 14 अंक अर्जित कर लेती है तो उसके प्लेऑफ में पहुंचने की एक धुंधली सी ही मगर उम्मीद कायम रहेगी। बीते साल सनराइजर्स हैदराबाद की टीम 12 अंकों के साथ भी प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ कर गई थी।

क्या है संभावनाएं दिल्ली कैपिटल्स की टीम फिलहाल अंक तालिका में सबसे ऊपर है। उसने नौ में से सात मैच जीते हैं। चेन्नै के लिए अच्छा होगा कि दिल्ली की टीम अपने बाकी बचे पांचों मैच जीते। हालांकि अगर वह मुंबई से हार जाती है तो भी चेन्नै के लिए उम्मीद कायम रहेगी क्योंकि ये दोनों टीमों टेबल में टॉप पर हैं।

दूसरी ओर विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर  की टीम फिलहाल तीसरे पायदान पर है। टीम ने नौ में से छह मैच जीते हैं। अगर चेन्नै को क्वॉलिफाइ करना है तो उसे उम्मीद करनी होगी कि बैंगलोर की टीम इसी पोजीशन पर बनी रहे। हालांकि बैंगलोर दूसरे और मुंबई तीसरे पायदान पर आ सकती है लेकिन बैंगलोर के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स और सनराइजर्स हैदराबाद को हराना जरूरी होगा।

चेन्नै सुपर किंग्स के लिए सबसे अच्छी बात यही होगी कि टॉप तीन पर रहने वाली टीमें अपनी पोजीशन पर रहें। या यूं कह लें कि टॉप तीन की टीमें वही रहें भले ही उनका स्थान परिवर्तन हो जाए। इसके अलावा केकेआर, राजस्थान रॉयल्स, सनराइजर्स और किंग्स इलेवन पंजाब के अंक 12 से अधिक नहीं होने चाहिए। अगर यह स्थिति रही और चेन्नै ने अपने बाकी मैच जीत लिए तो फिर उसे प्लेऑफ में जगह मिल सकती है।

इसके अलावा, अगर इनमें से किसी टीम के अंक 14 हो जाते हैं तो चेन्नै को नेट रनरेट की एक और बाधा को पार करना होगा। अब महेंद्र सिंह धोनी, जिन्होंने अपने करियर में कई बार अनहोनी को होनी करके दिखाया है, के लिए यह सबसे मुश्किल काम हो सकता है कि वह अपनी टीम को आईपीएल 2020 के प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाइ करवाएं।

No comments