Breaking News

Free में हो रही बेटी के नाम पर 11000 रुपये की FD, ये है तरीका


जेनेक्स नाम की संस्था अपने चाइल्ड डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत भारत में सभी जन्म लेने वाली बेटियों को 11 हजार रु एफडी का तोहफा देगी। जेनेक्स लैंगिक समानता के लिए काम करती है। जेनेक्स ने ऐलान किया है भारत में जो भी बेटी जन्म लेगी उसके नाम पर 11 हजार रु की एफडी कराई जाएगी। इस सुविधा का लाभ उन बेटियों को मिलेगा, जिनके माता-पिता इस पहल के तहत रजिस्टर हैं। जेनेक्स गर्ल चाइल्ड डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत देश में पैदा होने वाली हर बेटी, जिसके माता-पिता इसके लिए रजिस्टर करें, को जन्म के समय 11,000 रुपये की एफडी दी जाएगी। इसमें धर्म, सोशल स्टेटस या किसी खास जगह की कोई पाबंदी नहीं है। ये बेनेफिट सभी को मिलेगा।

फ्री में मिलेगा बेनेफिट ये बेनेफिट पूरी तरह फ्री है। इस सुविधा का फायदा उठाने के लिए माता-पिता www.genexchild.com पर रजिस्टर कर सकते हैं। यह पहल 18 वर्ष की आयु में बालिकाओं को आर्थिक लिहाज से मजबूत बनाने के लिए है, क्योंकि उस समय उनके पास खुद के पैसे होंगे। उस समय हर लड़की इस पैसे का इस्तेमाल उसके अपनी शिक्षा, कारोबार या विवाह, जो भी उसे ठीक लगे, के लिए कर सकेगी। इस पैसे को खर्च करने का उसे पूरा अधिकार मिलेगा। जेनेक्स के अनुसार इसका उद्देश्य लड़कियों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाना है।

माता-पिता पर कोई वित्तीय बोझ नहीं जेनेक्स के संस्थापक पंकज गुप्ता ने कहा कि हम अपने 1,50,000 नेटवर्क भागीदारों के साथ इस पहल की घोषणा करते हुए खुशी महसूस कर रहे हैं। अगली पीढ़ी को स्वतंत्र बनाने की दिशा में यह सिर्फ एक छोटा कदम है। इस कार्यक्रम में किसी तरह की विदेशी फंडिंग शामिल नहीं है और न ही इसका कोई वित्तीय बोझ बच्ची के पैरेंट्स पर पड़ेगा। पूरी फंडिंग जेनेक्स और भारतीय हेल्थकेयर भागीदारों के माध्यम से की जाएगी।

मिलेगा हेल्थ प्लान का फायदा इस कार्यक्रम के तहत एक मुफ्त स्वास्थ्य योजना का भी फायदा मिलेगा। जेनेक्स ग्लोबल स्टैंडर्ड के अनुसार माँ की देखभाल करेगी ताकि अगली पीढ़ी स्वस्थ हो। इससे शिशु मृत्यु दर में भी कमी आएगी। जेनेक्स की सह-संस्थापक शीतल कपूर के अनुसार लड़की के रूप में पैदा होना अपने आप में एक विशेषाधिकार है। इसके लिए भारत के सबसे बड़े सोशल इम्पैक्ट इनिशिएटिव के माध्यम से सभी को सहमत बनाने का ये सही समय है। हर दिन भारत में 73,000 से अधिक बच्चे पैदा होते हैं और जेनेक्स अगली पीढ़ी की देखबाल में बदलाव लाने के लिए पूरी तरह तैयार है।

No comments