Breaking News

भारत में उगाई जाने वाली मशरूम की विदेशों में भारी डिमांड, 1 किलो खरीदने के लिए खर्च करने पड़ेंगे 30 हजार रुपये


अगर आप खाने के शौकीन हैं तो जाहिर सी बात है कि मशरूम को तो पसंद करते ही होंगे. हिमालय क्षेत्र में उगने वाली एक सब्जी अपनी कीमत की वजह से काफी चर्चा में है. जरा सोचिए कि अगर आपको कोई सब्जी खरीदने के लिए दुकानदार को हजारों रुपये की कीमत अदा करनी पड़े तो आप क्या करेंगे? जी हां, भारत में ही एक ऐसी मशरूम उगाई जाती है, जिसकी कीमत सुनकर आपके होश उड़ना तय है.

आज हम आपको एक ऐसी महंगी मशरूम के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे खरीदने के बारे में आम आदमी दस बार सोचेगा. इसे स्पंज मशरूम भी कहा जाता है. यह मशरूम की ही एक प्रजाति मॉर्शेला फैमिली से ताल्लुक रखती है. इस सब्जी का वैज्ञानिक नाम मार्कुला एस्क्यूपलेंटा है. कुछ लोग इसे गुच्छी नाम से भी पहचानते है. ये सब्जी खाने के लिए किसी को भी कई बार सोचना पड़ता है. बाजार में इसकी कीमत 30 हजार रुपये किलो है.

कई औषधीय गुणों से भरपूर

गुच्छी कई औषधीय गुणों से भरपूर है. एक रिपोर्ट के मुताबिक इसके नियमित सेवन से दिल की बीमारियां नहीं होती हैं. वैज्ञानिक कहते हैं कि पहाड़ के लोग भी जल्दी गुच्छी चुनने नहीं जाते, क्योंकि गुच्छी एक बार जिस जगह पर उगती है, जरूरी नहीं उसी जगह दोबारा भी उगे.

कई बार यह सीधी चढ़ाई पर भी उग जाती है या फिर गहरी घाटियों में. इसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन-B, D, C और K होता है. गुच्छी भारत में मिलने वाली दुर्लभ सब्जियों में से एक है, जिसकी विदेशों में अच्छी खासी डिमांड है. यह सब्जी फरवरी से लेकर अप्रैल के बीच में ही मिलती है, जिसे बड़ी-बड़ी कंपनियां और होटल खरीद लेते हैं.

इन जगहों पर मिलती है गुच्छी

हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर के पहाड़ों पर गुच्छी उगाई जाती हैं. कई बार सीजन में ये खुद ही उग जाती हैं. लेकिन अच्छी तादाद में गुच्छी जमा करने में लोगों को कई महीनों का समय लग जाता हैं. पहाड़ पर जाकर जान जोखिम में डालकर यह सब्जी लाने की वजह से इसकी कीमत ज्यादा रखी जाती है. विदेशों में इसे दुनिया की सबसे बेहतरीन मशरूम कहा जाता है. गुच्छी की केवल सब्जी ही नहीं इसका पुलाव और मिठाई जैसी कई डिश में इसका इसका इस्तेमाल किया जाता है तो जब इतने सारे गुणों से भरपूर है गुच्छी तो एक बार जरूर खाने की कोशिश करेंगे तो आपको जरूरत से ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे.

No comments