Breaking News

सर्दियों का आगाज होने पर स्वास्थ्य विभाग ने दी ठंड से बचने की चेतावनी


सर्दियों के मौसम का आगाज हो चुका है और इस मौसम में सर्दी, खांसी और बुखार जैसी बीमारियां बहुत सामान्य बात है। लेकिन इस समय में हमें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। अपनी मसरूफियत के साथ लोग कोरोना संक्रमण प्रतिबंधों को नजर अन्दाज करते दिख रहें है। सचिव स्वास्थ्य विभाग के सचिव अमिताभ अवस्थी ने जानकारी देते हुए बताया कि हमें यह याद रखना होगा कि कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। इस समय तो आवश्यकता और अधिक सजग और सावधान रहने की है। सरकार द्वारा सभी एतिहाती कदम उठाए गए हैं और सभी के लिए जरूरी दिनानिर्देश भी जारी किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में हमें इनका अनुपालन गम्भीरता से करना हैं, तभी हम कोविड-19 सक्रमण की सम्भावनाओं को न्यूनतम कर पाने में सफल हो पायेंगे। उन्होंने बताया कि लोगों में अवधारणा पैदा हो गयी है कि अस्पतालों में सुविधाओं का आभाव है, जबकि परिस्थिति यह है कि प्रदेश सरकार द्वारा कोरोना महामारी से निपटने के लिए उचित इन्तेजामात किये गए हैं। चार Pre-fabricated mkae-shift hospitals शिमला, कांगड़ा, मण्डी और नालागढ़ में बन रहे हैं जिनमें लगभग 200 नए बिस्तर शामिल किए जा रहे हैं।

2 मेडिकल कॉलेजेस में 164 बिस्तर हैं जिनमें 118 मरीज हैं।
11 डेडिकेटेड कोविड स्वास्थ्य केंन्द्र में 473 बिस्तर हैं जिनमें 157 मरीज हैं।
50 डेडिकेटेड कोविड केयर सेंटर जिनमें 2583 बिस्तर हैं जिनमें 165 मरीज हैं।
राज्य में कुल 119 वेंटिलेटर्स उपलब्ध हैं।
IGMC शिमला में 53 और डीडीयू, जोनल अस्पताल शिमला में 25 बैड बढ़ाए गए हैं।

उन्होंने आगे जानकारी देते हुए बताया कि लोगों को डरने या भ्रमित होने की आवश्यकता नहीं है अपितु सजग-सतर्क रहने की जरूरत है। प्रदेश में कोविड-19 के मरीज़ों के लिए इमके की कमी नहीं हैं। उन्होंने जनसाधारण से आहृवान किया कि वे कोरोना वायरस से खुद को बचाने के लिए स्वच्छता का पूरा ख्याल रखें। सरकार द्वारा निर्दिष्ट नियमें का पालन करें, प्रत्येक व्यक्ति के मध्य निर्दिष्ट एक मीटर के फासले को बरकरार रखते हुए परस्पर सामाजिक दूरी के सिद्धांत को बनाये रखें। एक स्थान पर अनावश्यक रूप से भीड़ इकट्ठी न होने दें।

कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथों को सैनिटाइजर या फिर साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं, जब आप बाहर से घर वापस आए तो सबसे पहले अपने हाथ धोएं। अगर आप बाहर है तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। सामान्यतः मास्क या फेस कवर से मुंह ढकें। इसके साथ ही छींक आत समय टिशु से मुंह को ढक लें और शिष्टाचार का पालन करें, जिसमें कोई दूसरी व्यक्ति इससे सक्रमित न हो। उपयोग की गई टिशु को तुरंत डस्टबीन में डाल दें और अपने हाथ को धो लें। खांसी या जुकाम वाले व्यक्ति से बातें करते या मिलते समय उससे करीब 1 मीटर यानी 3 फीट की दूरी बनाकर रखें। आप किसी जगह को छूते है तो हो सकता है कि उसमें यह वायरस हो, इसलिए नाक, आंख और मुंह को न छुएं।

No comments