Breaking News

दिवाली के दिन करें ये काम, होगी हर मनोकामना पूरी


दीपावली हिन्दू धर्म के सबसे बड़े त्योहार के अलावा तंत्र-मंत्र एवं दिव्य साधनाओं के लिए भी विशेष पर्व माना जाता है। दि‍वाली को कालरात्रि, महानिशा, महाकृष्णा और दिव्यरजनी भी कहा जाता है। शास्त्रों में इस रात का अत्यंत महत्व माना गया है। प्राचीन शास्त्रों में दीपावली का संपूर्ण दिन ही विभिन्न साधना व उपासना के लिए उपयुक्त माना गया है। शास्त्रों में दीपावली को जनमानस के लिए मनोरथ सिद्धि का दिन कहा गया है। 

ऐसा माना जाता है कि इस दिन की जाने वाली पूजा से सुख, धन, सौभाग्य, सिद्धि व आरोग्य मिलता है। इसीलिए संपूर्ण भारत में दीपावली पर जातक अपने लिए सुख, धन, सौभाग्य, सिद्धि व आरोग्य प्राप्ति के लिए पूजन और साधना करता है। इसी दिन सभी देवता प्रसन्न मुद्रा में होते हैं, अर्थात् मांग लो जो मांगना है। सही विधि और शुद्ध विचार से किए गए पूजन-पाठ से जातक अपने जीवन को धन-धान्य से भरपूर कर समृद्ध बना सकता है। 

धन-लाभ की कामना के लिए दीपावली से बढ़ कर कोई मुहूर्त नहीं होता है। इस दिन की गई पूजा-पाठ अत्यंत सफल होती है। बताए गए सरल उपायों से निश्चित ही अर्थलाभ होता है। 

1 धन लाभ के लिए दीपावली की रात चौकी पर लाल वस्त्र बिछाएं, उस पर गेंहू से स्वास्तिक बनाएं, इनके ऊपर एक थाली रखें, थाली में कुंमकुंम से ‘गं’ लिखें, इसके ऊपर श्वेतार्क गणपति, श्रीफल व 7 कौडियां रखें, चंदन की माला से 5 बार निम्न मंत्र का जाप करें - 

ॐ सर्व सिद्धि प्रदीयसि त्वं सिद्धि बुद्धिप्रदो भवः श्रीं’

अगले दिन 5 कन्याओं को पीला भोजन कराएं, श्वेतार्क को पूजाघर में रख दें, बाकी सामग्री जल में प्रवाहित कर दें। 

2 दीपावली के दिन तुलसी की पूजा व रात्रि में कच्चे सूत को शुद्ध केसर से रंग कर निम्न मंत्र का 5 माला जाप करने के पश्चात कार्य स्थल में रखने से व रोजाना इसके दर्शन व पूजा से उन्नति मिलती है
'ॐ श्रीं श्रीं ह्रीं ह्रीं ऐश्वर्य महालक्ष्म्यै पूर्ण सिद्धिं देहि देहि नमः’। 

3 श्वेतार्क की जड़ श्री गणेश का प्रतिरूप समझी जाती है। दीपावली के दिन इस जड़ की पूजा स्थल पर प्राण प्रतिष्ठा की जाए और रोजाना महालक्ष्मी जी के निम्न मंत्रों के साथ उनकी व महालक्ष्मी जी की पूजा की जाए तो माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है :- > 'ॐ ह्रीं अष्टलक्ष्म्यै दारिद्र्य विनाशिनी सर्व सुख समृद्धिं देहि देहि ह्रीं ॐ नमः’। 

4 दीपावली पर चांदी से निर्मित दो गाय अभिमंत्रित कराकर एक गाय किसी विद्वान ब्राह्मण को दान देने व दूसरी गाय को 'कामधेनु देवी’ की भांति घर के पूजन स्थल पर रखकर नित्य दर्शन व पूजन करने से धनागमन बना रहता है।  ॐ ह्रीं क्लीं महालक्ष्मयै नमः

5 दीपावली पर श्री लक्ष्मी की तस्वीर या यंत्र के सम्मुख दीपावली से शुरू कर के नित्य इस मंत्र का 5 माला जाप करने से धन आगमन होता है।

No comments