Breaking News

तीन बार फेल, पति ने दिया साथ, चौथे अटेंप्ट में ऐसे डॉक्टर से बनी IAS


अक्सर सुना होगा कि शादी के बाद लड़कियां अपने करियर पर ध्यान नहीं दे पातीं. लेकिन अगर पति और परिवार का सहयोग मिल जाए तो अस्वति जैसी नजीर बनती हैं. तीन बार यूपीएससी में फेल होने के बावजूद परिवार का साथ मिलने के बाद अस्वति ने एमबीबीएस डॉक्टर से आईएएस बनकर दिखा दिया. आइए जानें कैसा रहा उनका सफर. 

अस्वति श्रीनिवास ने यूपीएससी 2019 की परीक्षा में ऑल इंडिया 40वीं रैंक हासिल की है. मूल रूप से कोल्लम की रहने वाली अश्वती ने पति और परिवार की मदद से चौथे प्रयास में सफलता हासिल की है. अस्वति की परवरिश कासरगोड से हुई. उनकी शुरुआती पढ़ाई जवाहर नवोदय, केंद्रीय विद्यालय कासरगोड और केंद्रीय विद्यालय त्रिवेंद्रम से हुई.

शुरुआती पढ़ाई पूरी करने के बाद अस्वति ने श्रीगोकल मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च फाउंडेशन से एमबीबीएस में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की. इसी मेडिकल साइंस विषय को ऑप्शनल विषय लेकर उन्होंने यूपीएससी की तैयारी की और चौथे प्रयास में उन्हें सफलता मिली. 

एक वीडियो इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि एक स्टूडेंट के तौर पर उन्होंने कभी सिविल सर्विस के बारे में नहीं सोचा था. इसके बाद एमबीबीएस फाइनल इयर के बाद जब छुट्टी पर घर आईं तभी उनके मन में इसका ख्याल आया. वो कहती हैं कि मेरी सोशल साइंस में रुचि थी, वहीं से मुझे विचार आया. 

उन्होंने बताया कि उन्होंने पहले दो अटेंप्ट सेल्फ स्टडी के जरिये दिए. वो कहती हैं कि इसमें लूप होल के चलते उनका सेलेक्शन नहीं हो पाया. फिर एलाइट से उन्होंने 2017 दिसंबर से कोचिंग की. वो कहती हैं कि तैयारी के दौरान मेरे पति, पेरेंट्स और दोस्तों ने भी साथ दिया. 2018 में पहली बार पूरी तैयारी से एग्जाम दिया. 

अश्वति यूपीएससी में 40वीं रैंक हासिल करके वर्तमान में ट्रेनिंग कर रही हैं. उन्होंने अगले महीने प्री देने जा रहे प्रतियोगियों को सलाह दी है कि आप किसी भी तरह की एंजाइटी लेकर परीक्षा कक्ष में नहीं जाएं. अगर शांत मन से आप परीक्षा देते हैं तो अपना सबसे बेस्ट दे पाएंगे. 

डॉक्टरी की पढ़ाई के बाद साल 2019 में उन्होंने पूरे कॉन्फीडेंस के साथ परीक्षा दी जिसके बाद वो अब ट्रेनी आईएएस के तौर ट्रेनिंग ले रही हैं. अश्वति तैयारी कर रहे एस्प‍िरेंट्स को सलाह देती हैं कि इस तैयारी के लिए आपको सोशल मीडिया का कम से कम इस्तेमाल करना चाहिए. इसके अलावा, टॉपर्स के इंटरव्यू, करेंट अफेयर्स और न्यूजपेपर डेली पढ़ने चाहिए.

अस्वति कहती हैं कि हम मेडिकल की पढ़ाई में जो 19 सब्जेक्ट पढ़ते हैं, इनमें से कम से कम 14 सब्जेक्ट ऐसे हैं जो हम ऑप्शनल में ले सकते हैं. जो लोग मेडिकल की पढ़ाई के बाद तैयारी कर रहे हैं, उन्हें सलाह देते हुए अस्वति कहती हैं कि आप कंटेंट के लिए वो सारी किताबें पढ़ सकते हैं जिसे आप मेडिकल की पढ़ाई की है.

No comments