Breaking News

हैदराबाद चुनाव के शुरुआती रुझानों में BJP ने बनाई बढ़त


हैदराबाद निगम चुनाव के नतीजों में हर पल फेरबदल देखने को मिल रहा है. शुरुआती मतगणना में ऐसा लगा कि तेलंगाना में बीजेपी (BJP) का भाग्य बदलने की शुरुआत हो चुकी है. लेकिन, थोड़ी ही देर बाद रुझानों में भाजपा पीछे हो गई. शुरुआती दौर में ऐसा लगा कि हैदराबाद निगम चुनाव के रुझानों में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को बहुमत मिल गया, लेकिन धीरे-धीरे तस्वीरें बदलने लगी.

हैदराबाद में भाजपा के 'भाग्य' में क्या?

हैदराबाद (Hyderabad) निगम चुनाव की मतगणना जारी है. रुझानों में पहले बीजेपी को बहुमत मिलता दिख रहा था. लेकिन थोड़ी ही देर बाद TRS ने शानदार कमबैक किया. हालांकि फिलहाल कुछ भी कहना मुश्किल है.
क्या है ताजा अपडेट?

TRS ने 46 सीटों पर बढ़त बनाई हुई है, जबकि 13 सीटों पर जीत दर्ज कर ली है
ओवैसी की पार्टी AIMIM 15 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि 25 सीटें जीत चुकी है
भाजपा (BJP) 40 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि 3 सीटें जीत चुकी है
कांग्रेस (Congress) 2 सीटों पर पर आगे चल रही है, जबकि 1 सीट चुकी है

हैदराबाद में उलटफेर की स्थिति बरकरार है. बीजेपी की सीटें ज्यादा-कम और कम-ज्यादा हो रही हैं. TRS अचानक से बढ़ी, फिर फिकी पड़ गई, ओवैसी की AIMIM की सीट में भी बढ़ोतरी देखी गई. हैदराबाद निगम चुनाव में TRS को उपर दिए गए आंकड़े बिल्कुल ताजा हैं. बढ़त हासिल करने के बाद TRS की खुशी का ठिकाना ही नहीं है, TRS ने ये बयान दिया कि "शहर हमारा है, मेयर भी हमारा होगा"
क्या रहे शुरुआती रुझान?

जब वोटों की गिनती हुई, तो रुझानों में 94 सीटों पर बीजेपी आगे चल रही थी. जबकि TRS को 33 सीटों पर बढ़त थी. वहीं ओवैसी की पार्टी AIMIM सिर्फ 17 सीटों पर आगे चल रही थी. इसके अलावा कांग्रेस 4 सीटों पर सिमटती दिख रही है. फिलहाल कांग्रेस की हालत जैसी थी, लगभग वैसी ही है. लेकिन भाजपा को जबरदस्त धक्का लगता दिख रहा है. वोटों की गिनती जारी है, लेकिन नतीजों को लेकर भाजपा में उत्साह में जबरदस्त गिरावट देखा जा सकता है.

भाजपा में खुशी पर ग्रहण

जब भाजपा 94 सीटों पर आगे चल रही थी तब बीजेपी के डी अरविन्द ने कहा था कि "हैदराबाद नगर निगम चुनाव बदलाव की ओर इशारा है, टीआरएस को सन्देश है कि लोग बदलाव चाहते है. इसके लिए ही तेलंगाना के लोगों ने वोट किया है. 2024 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 15 लोकसभा की सीटें मिलेंगी. केसीआर सीएम ऑफिस तक आते नहीं है. यहां एंटी हिन्दू काम चल रहा है, रोहिंग्या को यहां क्यों लाना है. शाम तक रुकिए, बीजेपी अच्छा कर रही है. मार्च में हैदराबाद नगर निगम के चुनाव थे, के सी आर डरा है, 2023 में तेलंगाना में बीजेपी सरकार होगी."

वहीं तेलंगाना भाजपा के अध्यक्ष बंडी संजय कुमार ने कहा था कि "मैं अपना सिर झुकाता हूं और मतदाताओं के विश्वास को बनाए रखने के लिए अदालत का धन्यवाद करता हूं. राज्य सरकार के लिए हमेशा की तरह एक और हैमस्ट्रिंग, फिर भी थोड़ी शर्म की बात है." हालांकि भाजपा के लिए 30 सीटों पर बढ़त बना पाना किसी चमत्कार से कम नहीं है. लेकिन, सुबह की उम्मीद, दोपहर तक कम जरूर हो गई.

गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने भी हैदराबाद में BJP की जीत का दावा किया. जिसके बाद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने उन्हें चुनौती दी थी कि BJP के खिलाफ AIMIM ही जीतेगी. हैदराबाद नगर निगम पर किसका कब्जा होगा इसका फैसला शाम तक हो ही जाएगा, लेकिन बीजेपी के नेता अब भी रुझानों से काफी गदगद हैं, क्योंकि भाजपा ने 4 सीटों से लंबी छलांग लगाने की तरफ है.

No comments