Breaking News

गुरु नानक देव जी की ये बातें आज भी भटकों को दिला देती है सही राह

gugu nanak dev ji hindi thoughts

गुरु नानक देव जी दस सिख गुरुओं में से पहले और सिख धर्म के संस्थापक थे। गुरु नानक जी का जन्म कार्तिक महीने की पूर्णिमा के दिन हुआ था। गुरु नानक जी का जन्मदिन दुनिया भर में 'गुरु नानक गुरुपर्व' और प्रकाश उत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस साल प्रकाश उत्सव 30 नवंबर को मनाया जाएगा। श्री गुरु नानक देव जी को महान धार्मिक विचारकों में से एक माना जाता है। आज जानते हैं गुरु नानक देव जी के कुछ अनमोल वचनों के बारे में जो व्यक्ति को शांति, समानता, प्रेम, अच्छाई का ज्ञान देते हैं।

1. जिस व्यक्ति को अपने आप पर विश्वास नहीं है वो कभी भी ईश्वर पर पूर्णरूप से विश्वास नहीं कर सकता।
-गुरु नानक देव

2.अहंकार द्वारा ही मानवता का अंत होता है। अहंकार कभी नहीं करना चाहिये बल्कि ह्रदय में सेवा भाव रख जीवन व्यतीत करना चाहिये। -गुरु नानक देव

3.ईश्वर की सीमाएं और हदें सम्पूर्ण मानव जाती की सोच से परे है। -गुरु नानक देव

4. जब शरीर गंदा हो जाता है तो हम पानी से उसे साफ़ कर लेते हैं। उसी प्रकार जब हमारा मन गंदा हो जाये तो उसे ईश्वर के जाप और प्रेम द्वारा ही स्वच्छ किया जा सकता है। -गुरु नानक देव

5.भगवान के दरबार में सभी कर्मों का लेखा-जोखा होता है।-गुरु नानक देव

6.जब आप किसी की मदद करते हैं तो भगवान आपकी मदद करता है। हमेशा दूसरों की मदद के लिए आगे रहो।
-गुरु नानक देव

7.धन-समृद्धि से युक्त बड़े बड़े राज्यों के राजा-महाराजों की तुलना भी उस चींटी से नहीं की जा सकती है जिसमें ईश्वर का प्रेम भरा हो।-गुरु नानक देव

8. दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए। बिना गुरु के कोई भी दूसरे किनारे तक नहीं जा सकता है। -गुरु नानक देव

9.यदि लोग भगवान द्वारा दी गयी दौलत का प्रयोग सिर्फ खुद के लिए या खजाने में रखने के लिए करते हैं तो वह शव की तरह है। लेकिन यदि वे इसे दूसरों के साथ बांटने का निर्णय लेते हैं तो वह पवित्र भोजन बना जाता है।
-गुरु नानक देव

No comments