Breaking News

इंजीनियरिंग में पहले गोल्ड मेडलिस्ट और फिर पहली ही प्रयास में UPSC निकाल बनी IPS अधिकारी


किसी भी व्यक्ति की पहचान यूं हीं नहीं बनती। उसे अपनी पहचान के लिए मेहनत कर अपनी सफलता को हासिल करना पड़ता है। UPSC जैसी कठिन परीक्षा को जो पास कर उपलब्धि हासिल करता है उसकी एक अलग पहचान बनती है और वह सभी के लिए उदाहरण भी बनता है। आज की यह कहानी कश्मीर की लड़की की है जिसने इंजीनियरिंग में टॉप किया और आगे वे UPSC पास आईपीएस बनीं जिससे उन्हें हर व्यक्ति जानता है।

आईपीएस बिस्मा काजी

आईपीएस बिस्मा काजी ( IPS Bisma Qazi) कश्मीर (Kashmir) से ताल्लुक रखती हैं। उनका पालन-पोषण साधारण परिवेश में हुआ है। वह पढ़ने में तेज-तर्रार थीं जिस कारण यह हमेशा से पढ़ाई में टॉपर रही हैं। उन्हें बीई इलेट्रॉनिक्स से इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडल मिला है। उन्हें चित्रकला भी आता है। अब उन्हें वहां का हर एक व्यक्ति जनता है। वे वर्ष 2017 में UPSC क्रैक कर IPS बनी हैं।

दिल्ली में कर चुकी हैं कार्य

वह दिल्ली में IPS के रूप में अपना कार्यभार संभाल चुकी हैं। वह कश्मीर की प्रथम महिला IPS ऑफिसर हैं जो दिल्ली में AGMUT कैडर से हैं। उन्होंने अपनी ट्रेनिंग हैदराबाद राष्ट्रीय पुलिस अकादमी से किया है। उन्हें यह सफलता इतनी आसानी से नहीं मिली है उन्होंने अपनी सफलता के लिए संघर्ष भी किया है।

मां से मिली सीख

बिस्मा ने यह बताया कि जब उनकी मां ने उन्हें बोला कि तुम इंजीनियर हो इससे पैसे तो जरूर कमा लोगी तुम्हें जनता की सेवा करने का अवसर नहीं मिलेगा। तब उनकी मां ने यह भी बताया कि तुम्हें UPSC की पढ़ाई शुरू करनी चाहिए। इस वक़्त उन्होंने यह निश्चय किया और इसकी तैयारी के लिए दिल्ली के लिए निकली। वह वर्ष 2015 में दिल्ली अकेली आई।

उन्होंने ओरिएंटेड कोर्स जामिया में अटैंड किया तब उन्हें कुछ जानकारी प्राप्त हुई। वहां से फिर वह अपने घर आईं और अब वहां तैयारी प्रारंभ की। इस दौरान वहां कोई इंटरनेट की व्यवस्था नहीं थी। वहां उन्होंने सारी पढ़ाई खुद के दम पर की। जब उनके एग्जाम का वक्त आया उस दिन वहां शट-डाउन की वजह से ट्रैफिक जाम थी। इस दौरान उन्हें बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा तब जैसे-तैसे कर उनके अब्बू ने उनका साथ दिया और उन्हें यूनिवर्सिटी एग्जाम के लिए पंहुचाया।

दोस्त ने दिया रिजल्ट की जानकारी

वह दिन वर्ष 2017 का था जब उनके घर में खाने के बारे में तैयारी शुरु थी। वहां नेट बन्द था। तब उनके दोस्त ने कॉल किया और उन्हें यह खुशखबरी दी कि यह 115वां स्थान प्राप्त कर UPSC क्रैक कर चुकी हैं। उनके घर में सब जब यह बात सुने तो खुशी से फुले नहीं समाए। अब बिस्मा IPS बन जनता की सेवा करेंगी। अपनी ट्रेनिंग के दौरान उन्हें अपने अच्छे प्रदर्शन के लिए सम्मानित भी किया गया। उनके पास बहुत सारी लड़कियां यह सब पूछने आतीं हैं कि उन्होंने किस तरह तैयारी कर अपना सपना पूरा किया।

No comments