Breaking News

शिवपुराण: ऐसे पाप जिन्हे कभी क्षमा नहीं करते महादेव, भूल से भी ना करे

शिवपुराण: ऐसे पाप जिन्हे कभी क्षमा नहीं करते महादेव, भूल से भी ना करे

हिन्दू धर्म में कुल 18 पुराण बताये गए है | इन पुराणों में शिवपुराण भी शामिल है, जो की शिव जी से संबंधित है | शिव पुराण में जन्म-मरण, पाप-पुण्य और मनुष्य के अच्छे-बुरे कर्मो के बारे में बताया गया है | साथ ही इस पुराण में महादेव से जुडी कई अनोखी बातो के बारे में बताया गया है | इस पुराण में ऐसे 7 पापो का वर्णन किया गया है, जिनसे महादेव अत्यंत क्रोधित हो जाते है | इन पापो को करने वाले व्यक्ति को शिव जी कभी माफ़ नहीं करते है | आज हम आपको उन्ही पापो के बारे में बताने जा रहे है |

दुर्भावना मन में किसी के लिए दुर्भावना रखना, बुरे विचार लाना पाप माना गया है | इसीलिए मन में किसी के प्रति द्वेष की भावना ना रखे | इसके साथ ही कभी कोई ऐसा कार्य ना करे जिससे किसी व्यक्ति के लिए परेशानियां उत्पन्न हो | अन्यथा आपका ये कर्म पापकर्म बन सकते है |

धन संपत्ति के मामले में धोखा: कभी किसी को धन संपत्ति और पैसे के मामले में धोखा नहीं देना चाहिए | मन में ऐसे विचार लाना भी पाप माना गया है | धन और पैसे के लालची लोग कई बार अपने सगे संबंधियों को ही ठग लेते है | ऐसा करने से वे पाप के भागी बन जाते है | एक बात हमेशा ध्यान में रखे कि मेहनत और पुरुषार्थ से कमाया गया धन ही जीवन में सफलता दिलाता है |

दूसरे स्त्री/पुरुष पर बुरी नजर: जो लोग एक रिश्ते में होते हुए भी दूसरे स्त्री/पुरुष पर बुरी नजर डालते है, ऐसे लोगो को महादेव कभी क्षमा नहीं करते है | एक रिश्ते में होते हुए भी किसी दूसरे को पाने की इच्छा रखना मनुष्य को पाप का भागी बनाता है | शिवपुराण में तो एक रिश्ते में होते हुए किसी दूसरे के बारे में सोचना भी पाप माना गया है | इसके अलावा दुसरो के रिश्ते को तोड़ने का प्रयास करने वाले को स्वयं महादेव दण्डित करते है |

गर्भवती स्त्री को कटुवचन: कभी भी गर्भवती स्त्री और मासिक काल में चल रही स्त्री को कटुवचन नहीं कहने चाहिए | ऐसा करने से उनके मन को दुःख पहुंचता और भगवान् भी नाराज होते है | इसीलिए कभी भूलकर भी गर्भवती स्त्री का अपमान ना करे, इससे गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है | ऐसा करने वाले व्यक्ति को भगवान कभी क्षमा नहीं करते है |

ईर्ष्या ईर्ष्यालु लोग कई बार बेवजह ही लोगो से ईर्ष्या करने लगते है, उनकी पीठ पीछे बुराई करने लगते है | यहाँ तक कि उनकी प्रतिष्ठा को भी धूमिल करने की कोशिश करते है | ध्यान रहे ऐसे लोगो को महादेव कभी क्षमा नहीं करते है | किसी के छवि को धूमिल करने का प्रयास करना अक्षम्य अपराध है |

धर्म के खिलाफ कार्य: 
जो मनुष्य धर्म के खिलाफ कार्य करता है, दुसरो को हानि पहुंचता है, धर्म में वर्जित चीजों का सेवन करता है, ऐसा व्यक्ति घोर पाप का भागी बनता है | धर्म के आधार पर लोगो में हिंसा भड़काता है, ऐसा व्यक्ति पाप का भागी बनता जाता है, जिसे महादेव स्वयं दण्डित करते है |

No comments