Breaking News

इन मंत्रो के जाप से दूर होंगे ग्रह दोष, हर ओर से आएगी खुशियां

इन मंत्रो के जाप से दूर होंगे ग्रह दोष, हर ओर से आएगी खुशियां

साल 2020 किसी भी मायने में एक अच्छा साल साबित नहीं हुआ | लेकिन इस साल से सभी को उम्मीदे है कि इस बार कुछ नया होगा | जीवन में सुख शांति, समृद्धि और सकारात्मकता बनाये रखने के लिए ज्योतिष शास्त्र में कई उपाय बताये गए है | ज्योतिष का मानना है कि जीवन में आने वाले सुख और दुख हमारी कुंडली में मौजूद ग्रहो की स्थिति पर निर्भर करते है | ऐसे में यदि आपकी कुंडली में ग्रहो से संबंधित किसी प्रकार का दोष है, तो हम आपको उन्हें दूर करने के लिए कुछ उपाय बताने जा रहे है | ताकि आपका आने वाला सुख शांति से बीते, तो आइये जानते है | आज की इस पोस्ट में आपके लिए क्या ख़ास है |

सूर्य कुंडली में कमजोर सूर्य शारीरिक और सफलता पर नकारात्मक प्रभाव डालते है | ऐसे में रोजाना सूर्य को जल अर्पित करते समय 'ॐ घृणि सूर्याय नम:' मंत्र का जप करे | और जल अर्पण के पश्चात् लाल आसान पर बैठकर पूर्व दिशा में मुख कर अग्रलिखित मंत्र का 108 बार जाप करे |

एहि सूर्य सहस्त्रांशो तेजोराशे जगत्पते। 
अनुकम्पय मां भक्त्या गृहणार्ध्य दिवाकर।।

चन्द्रमा कुंडली में कमजोर चन्द्रमा के चलते कलह, मानसिक विकार, दुर्बलता, धन की कमी का सामना करना पड़ता है | इससे बचने के लिए आप साफ सफाई पर अधिक ध्यान दे, और नीचे बताये मंत्रों का जाप करे |

1.ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम:।। 
2.ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम:।।

मंगल जीवन में ऊर्जा और तरक्की के लिए मंगल का मजबूत होना अत्यंत आवश्यक है | मंगल का प्रभाव कुछ कुछ शांति के तरह ही होता है, इसीलिए लोग इससे भय खाते है | ऐसे में मंगल देव की कृपा प्राप्ति के लिए आप इस मंत्र का जाप करे |

1.अं अंगारकाय नम:।
2. धरणीगर्भसंभूतं विद्युत्कांति समप्रभम्।
कुमारं शक्तिहस्तं च भौममावाह्यम्||

बुध नौ ग्रहो में बुध शारीरिक रूप से कमजोर और बौद्धिक रूप से सबसे आगे है | ऐसे में व्यक्ति के लिए बुध देव की कृपा अत्यंत आवश्यक है | ऐसे में बुध की शुभता प्राप्ति के लिए आप बुध के बीज मंत्र का जाप करे |

ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:।।

बृहस्पति ज्योतिष में बृहस्पति को सभी ग्रहो का गुरु माना गया है | इनके शुभ प्रभाव से सुख, सौभाग्य, दीर्घायु, और धन धान्य की प्राप्ति होती है | लेकिन इनकी अशुभ स्थिति अहितकारी साबित होती है | ऐसे में आप इस मंत्र का रोजाना 108 बार जाप करे |

देवानां च ऋषीणां च गुरुं कांचनसंनिभम्। 
बुद्धिभूतं त्रिलोकशं तं नमामि बहस्पतिम्।।

शुक्र कुंडली में शुक्र की अशुभ स्थिति होने पर आर्थिक संकटो और कई तरह के अशुभ का सामना करना पड़ता है | ऐसे में जीवन में सुख शांति और शुक्र की कृपा के लिए इस मंत्र का जाप करे |

ॐ शुं शुक्राय नम:।

शनि कुंडली में शनि की अशुभ स्थिति कई तरह की परेशानियां उत्पन्न करती है, तो शुभ स्थिति जीवन में खुशियां भर देती है | यदि आप शनिदोष से पीड़ित है, तो आपको अपने व्यवहार में मधुरता लानी होगी और नीचे बताये मंत्रों का पूर्ण श्रध्दा से जाप करना होगा |

1. ॐ शं शनैश्चराय नमः।
2. ॐ प्रां प्रीं प्रौ सं शनैश्चराय नमः।

राहु और केतु ये दोनों ही ग्रह छाया ग्रह है | राहु की अशुभ स्थिति जीवन में असफलता का कारण बनती है, तो केतु की अशुभ स्थिति जीवन में भ्रम पैदा करने लगती है | इनके अशुभ प्रभाव से बचने के लिए आप बुजुर्गो की सेवा करे और नीचे बताये मंत्र का जाप करे |

राहु:- ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं स: राहवे नम:'।
केतु:- ॐ कें केतवे नम:।

No comments