Breaking News

घर के दरवाजे पर आज ही बनाये ये दो चिह्न छूमंतर होगी हर बीमारी

घर के दरवाजे पर आज ही बनाये ये दो चिह्न छूमंतर होगी हर बीमारी

आपके नए घर या फ्लैट का वास्तु सही है या गलत, यह जानने का सबसे अच्छा तरीका है कि किसी भी नवजात शिशु को अपने नए घर में ले जाएं।

अगर वह शिशु वहां घुसते ही रोता है तो इसका मतलब है की उस घर का वास्तु ठीक नहीं है या वहां पर नकारात्मक ऊर्जा अधिक है जो आपके लिए अच्छी नहीं है।

अगर शिशु घर में घुसते ही हंसता या मुस्कराता है तो उस घर में सभी कुछ सही है। साथ ही, यदि आप उस घर में अकेले जाने पर अजीब सा महसूस करते हैं, आपका दम घुटने लगता है तो भी घर में वास्तु दोष हो सकता है।
इस वजह से भी होता है घर का वास्तु खराब

कई बार ऐसा भी होता है कि घर का वास्तु पूरी तरह से सही होता है फिर भी वहां जाने पर अजीब सा लगता है। कई बार ऐसे घरों में बिना कारण ही दम सा घुटने लगता है, इसका कारण वहां पर मौजूद नकारात्मक ऊर्जा होती है। इसका कारण घर के इतिहास में छिपा हो सकता है।

संभव है उस घर में किसी ने आत्महत्या की हो, या किसी की हत्या हुई हो। इसके अलावा वहां घर बनने से पहले कोई श्मशान, कब्रिस्तान या फिर कोई अन्य प्राचीन भूतहा इमारत हो। कई बार घरों में भूत-प्रेतों की उपस्थिति में भी ऐसा अनुभव होता है।

वास्तु दोष के कारण घर में नकारात्मक उर्जा उत्पन्न हो जाती है। और वास्तुशास्त्र उस नकारात्मक ऊर्जा को समाप्त करने का हमें तरीका बताता है। और ये तरिके इन नकारात्मक ऊर्जाओं को समाप्त करते है। तो आइये जानते है इन उपायों के बारे में….

# यदि आपको ऐसा महसूस हो कि घर में वास्तु दोष है तो अपने घर के मुख्य दरवाजे पर दोनों ओर ओम या स्वास्तिक का चिन्ह बना दे। अगर आप चाहें तो बाजार से स्टीकर लाकर भी चिपका सकते हैं ऐसा करने से घर में वास्तु दोष का प्रभाव कम होने लगता है।

# वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का मुख्य दरवाजा हमेशा अंदर की ओर खुलना चाहिए। और यह बाकी दरवाजों से बड़ा होना चाहिए। जिस घर में यह दरवाजे बाहर की ओर खुलते हैं बरकत नहीं हो पाती हैं। जिस घर में दरवाजा खोलते हैं बंद करते समय आवाज आती है उस घर में कभी बरकत नहीं होती है। इसलिए अगर ऐसा कोई दरवाजा है तो इसे तुरंत सही करवा ले। इससे भी वास्तु दोष का प्रभाव कम होता है।

# वास्तु शास्त्र के अनुसार जिस घर में किसी भी प्रकार का वास्तु दोष है। अखंड रूप से श्री रामचरित्रमानस के नौ पाठ या फिर भागवत गीता का कीर्तन करने से उस घर के सभी वास्तु दोष दूर भाग जाते हैं।

No comments