Breaking News

फेफड़ों को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो अपनी डाइट में इन जड़ी-बूटियों और मसाले को करें शामिल

फेफड़ों को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो अपनी डाइट में इन जड़ी-बूटियों और मसाले को करें शामिल

फेफड़े शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक हो गए हैं और इन दिनों उसके बारे में ज्यादा बात की जा रही है, खासकर कोविड-19 महामारी के बाद. फेफड़े अभी भी वायरल संक्रमण के कारण बुनियादी तौर पर प्रभावित होनेवाले अंग हैं. वास्तव में, न सिर्फ कोरोना वायरस, बल्कि ज्यादातर वायरस से फेफड़ों को नुकसान पहुंचता है और उसके चलते श्वसन संक्रमण हो सकता है.

अन्य समस्याएं जिससे आम तौर से फेफड़े प्रभावित होते हैं, उसमें फेफड़े का कैंसर शामिल है. ये दुनिया भर में सबसे आम कैंसर में से एक है. लेकिन, खतरनाक संक्रमण से फेफड़ों को जोखिम होने के बावजूद, उनकी देखभाल स्वस्थ डाइट और नियमित व्यायाम से की जा सकती है. एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन ए, ई, डी, सी और मिनरल जैसे मैग्नीशियम और कैल्शियम युक्त संतुलित आहार फेफड़ों के कामकाज को स्वस्थ रख सकता है. उसी तरह, नियमित व्यायाम से आपके फेफड़ों की क्षमता का सबसे अच्छा होना सुनिश्चित होता है. खास जड़ी-बूटी और मसाले उसके कामकाज को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं.

फेफड़ों को स्वस्थ रखने वाले 4 जड़ी बूटी और मसाले
अजवाइन के फूल- ये एक हरी जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल दुनिया भर में पकवानों में किया जाता है. अजवाइन के फूल एंटीऑक्सीडेंट्स जैसे अपिगेनिन और ल्युटेलिन से भरपूर होते हैं. ये एंटीऑक्सीडेंट्स आपके शरीर की सूजन से लड़ने में मदद करते हैं. ये जड़ी बूटी वायुमार्गों को आराम करने में भी मदद करता है और फेफड़ों की सफाई करता है.

हल्दी- ये एक मसाला है जिसमें स्वास्थ्य के बेहद फायदे हैं. सूजन-रोधी और एंटी-सेप्टिक गुणों की पहचान के चलते, हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट्स सूजन को कम करने में मदद करते हैं और वायुमार्गों को साफ रखते हैं. हल्दी प्राकृतिक वायरल रोधी भी है, जो वायरल संक्रमण को दूर रखने में मदद करता है और शरीर को स्वस्थ रखता है.

मुलैठी- मुलैठी को लिकोरिस भी कहा जाता है. ये आम देसी उपचारों में से एक है जिसका इस्तेमाल सांस की समस्या जैसे सामान्य जुकाम और खांसी के इलाज में किया जाता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उसमें कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो फेफड़ों की सफाई में मदद करते हैं और स्वस्थ बलगम पैदा करते हैं.

गिलोय- गिलोय कोविड-19 महामारी के दौरान बहुत लोकप्रिय हो गया है. इसका इस्तेमाल फेफड़ों के लिए और खतरनाक वायरस से शरीर की सुरक्षा के तौर पर होने लगा है. गिलोय में एंटीमाइकरोबियल गुण पाए जाते हैं जो बीमारी देनेवाले वायरस से लड़ने में मदद करते हैं जो फेफड़ों को प्रभावित करता है. गिलोय सूजन को कम करने में भी मदद करता है, जिससे फेफड़े स्वस्थ रह सकते हैं.

No comments