Breaking News

ये है धन लाभ और उन्नति के प्राचीन उपाय, एक बार जरूर आजमाए

ये है धन लाभ और उन्नति के प्राचीन उपाय, एक बार जरूर आजमाए

आज के समय में महंगाई आसमान छू रही है | लोग जितना कमाते है, उससे ज्यादा खर्च हो जाता है | अपनी जरूरतों को पूरी करने के लिए आवश्यक पूंजी के लिए लोग दिनरात भागदौड़ करते है, लेकिन फिर भी उनकी इच्छाएं और जरूरते अधूरी रह जाती है | इस वजह से लोग अपनी इच्छाएं और जरूरते भी सीमित करने लगे है | लेकिन एक बात ये भी सच है कि हर कोई चाहता है कि अपार धन हो, जिससे वो अपने जीवन का आनंद ले सके | ऐसे में आज हम आपको शास्त्रों में छिपे कुछ उपायों के बारे में बताने जा रहे है, जो आपको आर्थिक के साथ साथ मानसिक समस्याओ से भी मुक्ति दिलाएंगे | तो आइये जानते है, आज की इस पोस्ट में आपके लिए क्या ख़ास है |

माँ लक्ष्मी की तस्वीर

धन वैभव और सुख शांति के लिए घर में आप माँ लक्ष्मी की ऐसी तस्वीर लगाए | जिसमे वे कमल पर विराजमान हो, बता दे घर में ऐसी तस्वीर से सुख शांति बनी रहती है | वहीँ दूकान या कार्यक्षेत्र में माता की ऐसी तस्वीर लगाए, जिसमे वे खड़ी हो | इससे कारोबार में दिन दुनि रात चौगुनी वृद्धि होती है |

तुलसी का पौधा

आप अपने घर के ईशान कोण में तुलसी का पौधा अवश्य लगाए, और इसी कोण में उनकी पूजा करे | इसके अलावा पूजाघर में गंगाजल अवश्य रखे, इससे माँ लक्ष्मी की कृपा घर के सभी सदस्यों पर बनती है |

गीता का श्लोक

नौकरी या कारोबार में चल रही परेशानी से निपटने और आर्थिक उन्नति के लिए आप रोजाना श्रीमदभगवत गीता के अंतिम श्लोक "यत्र योगेश्वरः कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धरः। तत्र श्रीर्विजयो भूतिर्ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम।।" का 21 बार जप करे | इससे आत्मविश्वास बढ़ता है, और उन्नति के मार्ग खुलते है |

पीपल के वृक्ष का उपाय

हर मंगलवार और शनिवार को पीपल के वृक्ष में दूध, पानी और गुड़ मिलकर अर्पित करे | इससे ग्रह अनुकूल होते है और पितरों के साथ साथ देवताओ की कृपा भी बनती है | ब्रह्मपुराण में बताया गया है कि शनिवार को पीपल के वृक्ष को स्पर्श करने मात्र से उसके जीवन की बाधाएं दूर हो जाती है |

तुलसी की मिट्टी

प्रत्येक दिन तुलसी में जल देने के पश्चात् तुलसी की जड़ की मिट्टी को माथे पर लगाना चाहिए | इससे पापो का क्षय होता है और देव कृपा बनती है | इसके साथ ही तुलसी श्रीहरि की प्रिय होने की वजह से श्रीहरि के साथ साथ माँ लक्ष्मी की कृपा बनती है |

No comments